delete html5types.m4v; var maybeReadOnly = data.can.save || data.allowLocalEdits ? '' : 'readonly'; controls <# } else if ( 'image' === data.type && data.sizes ) { #>
<# } #> border-bottom: 1px solid #444444; <# } #> var polygoncoords = []; /* ]]> */
www.piotr.szemki.pl

{{ data.message }}

} delete html5types[ ext ]; data-setting="size" delete html5types.flv;

} background-color: #1562a5; <# if ( ! isVideo ) { #> by

<# } #>

data-setting="size" PLAN LICEUM SEMESTR I 7-8,14-15.12.2018 <# if ( data.userSettings ) { #> } else if ( wp.media.view.settings.contentWidth ) {

  • TECHNIK OCHRONY FIZYCZNEJ OSÓB I MIENIA
  • <# if ( 'video' === data.type ) { #>
  • KOSMETYKA ZWIERZĄT
  • DORADCA ZAWODOWY
  • var wpcf7 = {"apiSettings":{"root":"http:\/\/szkoly-psb.edu.pl\/index.php\/wp-json\/contact-form-7\/v1","namespace":"contact-form-7\/v1"},"recaptcha":{"messages":{"empty":"Potwierd\u017a, \u017ce nie jeste\u015b robotem."}}}; #frontpage-widgets-two .widgettitle, #frontpage-widgets-three .widgettitle { {{ data.uploadedToTitle }} FLAC

    PLAN LICEUM SEMESTR III7-8,14-15.12.2018

    var _wpMediaViewsL10n = {"url":"Adres URL","addMedia":"Dodaj medium","search":"Szukaj","select":"Wybierz","cancel":"Anuluj","update":"Zaktualizuj","replace":"Zast\u0105p","remove":"Usu\u0144","back":"Powr\u00f3t","selected":"%d wybrano","dragInfo":"Przeci\u0105gnij i upu\u015b\u0107, aby zmieni\u0107 kolejno\u015b\u0107 medi\u00f3w.","uploadFilesTitle":"Dodaj pliki","uploadImagesTitle":"Dodaj obrazki","mediaLibraryTitle":"Biblioteka medi\u00f3w","insertMediaTitle":"Dodaj medium","createNewGallery":"Stw\u00f3rz now\u0105 galeri\u0119","createNewPlaylist":"Utw\u00f3rz list\u0119 odtwarzania","createNewVideoPlaylist":"Utw\u00f3rz list\u0119 odtwarzania film\u00f3w","returnToLibrary":"\u2190 Wr\u00f3\u0107 do biblioteki","allMediaItems":"Wszystkie elementy media","allDates":"Wszystkie daty","noItemsFound":"Nie znaleziono \u017cadnych element\u00f3w.","insertIntoPost":"Wstaw do wpisu","unattached":"Nieza\u0142\u0105czone","mine":"Moje","trash":"Kosz","uploadedToThisPost":"Za\u0142adowano do wpisu","warnDelete":"Zamierzasz trwale usun\u0105\u0107 ten element ze swojej witryny.\nTa czynno\u015b\u0107 nie mo\u017ce zosta\u0107 cofni\u0119ta.\n 'Anuluj', aby zatrzyma\u0107, 'OK', aby usun\u0105\u0107.","warnBulkDelete":"Masz zamiar trwale usun\u0105\u0107 te elementy ze swojej witryny.\nTa czynno\u015b\u0107 nie mo\u017ce zosta\u0107 cofni\u0119ta.\nWybierz 'Anuluj' aby zatrzyma\u0107, 'OK' aby usun\u0105\u0107.","warnBulkTrash":"Zamierzasz przenie\u015b\u0107 te elementy do kosza. \n Kliknij 'Anuluj', aby anulowa\u0107 t\u0119 operacj\u0119, lub 'OK', aby j\u0105 sfinalizowa\u0107.","bulkSelect":"Zaznaczanie wielu","cancelSelection":"Anuluj zaznaczenie","trashSelected":"Przenie\u015b zaznaczone do kosza","untrashSelected":"Przywr\u00f3\u0107 zaznaczone z kosza","deleteSelected":"Usu\u0144 zaznaczone","deletePermanently":"Usu\u0144 na zawsze","apply":"Zastosuj","filterByDate":"Filtruj po dacie","filterByType":"Filtruj po rodzaju","searchMediaLabel":"Szukaj medi\u00f3w","searchMediaPlaceholder":"Przeszukaj media...","noMedia":"Nie znaleziono plik\u00f3w medi\u00f3w.","attachmentDetails":"Szczeg\u00f3\u0142y za\u0142\u0105czonego pliku","insertFromUrlTitle":"Dodaj adres URL","setFeaturedImageTitle":"Obrazek wyr\u00f3\u017cniaj\u0105cy","setFeaturedImage":"Wybierz obrazek wyr\u00f3\u017cniaj\u0105cy","createGalleryTitle":"Utw\u00f3rz galeri\u0119","editGalleryTitle":"Edytuj galeri\u0119","cancelGalleryTitle":"\u2190 Anuluj","insertGallery":"Wstaw galeri\u0119","updateGallery":"Aktualizuj galeri\u0119","addToGallery":"Dodaj do galerii","addToGalleryTitle":"Dodaj do galerii","reverseOrder":"Odwrotna kolejno\u015b\u0107","imageDetailsTitle":"Szczeg\u00f3\u0142y obrazka","imageReplaceTitle":"Zast\u0105p obrazek","imageDetailsCancel":"Anuluj edycj\u0119","editImage":"Edytuj obrazek","chooseImage":"Wybierz obrazek","selectAndCrop":"Zaznacz i przytnij","skipCropping":"Pomi\u0144 przycinanie","cropImage":"Przytnij obrazek","cropYourImage":"Przytnij obrazek","cropping":"Przycinanie\u2026","suggestedDimensions":"Sugerowane wymiary obrazu: %1$s na piksele %2$s.","cropError":"Wyst\u0105pi\u0142 b\u0142\u0105d podczas kadrowania obrazka.","audioDetailsTitle":"Szczeg\u00f3\u0142y pliku d\u017awi\u0119kowego","audioReplaceTitle":"Zast\u0105p plik d\u017awi\u0119kowy","audioAddSourceTitle":"Dodaj \u017ar\u00f3d\u0142o d\u017awi\u0119ku","audioDetailsCancel":"Anuluj edycj\u0119","videoDetailsTitle":"Szczeg\u00f3\u0142y filmu","videoReplaceTitle":"Zast\u0105p film","videoAddSourceTitle":"Dodaj \u017ar\u00f3d\u0142o filmu","videoDetailsCancel":"Anuluj edycj\u0119","videoSelectPosterImageTitle":"Wybierz plakat","videoAddTrackTitle":"Dodaj napisy","playlistDragInfo":"Przeci\u0105gnij i upu\u015b\u0107, aby zmieni\u0107 kolejno\u015b\u0107 utwor\u00f3w.","createPlaylistTitle":"Utw\u00f3rz list\u0119 odtwarzania plik\u00f3w d\u017awi\u0119kowych","editPlaylistTitle":"Edytuj list\u0119 odtwarzania audio","cancelPlaylistTitle":"\u2190 Anuluj list\u0119 odtwarzania audio","insertPlaylist":"Wstaw list\u0119 odtwarzania audio","updatePlaylist":"Aktualizuj list\u0119 odtwarzania audio","addToPlaylist":"Dodaj do listy odtwarzania audio","addToPlaylistTitle":"Dodaj do listy odtwarzania audio","videoPlaylistDragInfo":"Przeci\u0105gnij i upu\u015b\u0107, aby zmieni\u0107 kolejno\u015b\u0107 film\u00f3w.","createVideoPlaylistTitle":"Utw\u00f3rz list\u0119 odtwarzania film\u00f3w","editVideoPlaylistTitle":"Edytuj list\u0119 odtwarzania film\u00f3w","cancelVideoPlaylistTitle":"\u2190 Anuluj tworzenie listy","insertVideoPlaylist":"Wstaw list\u0119 odtwarzania","updateVideoPlaylist":"Zaktualizuj list\u0119","addToVideoPlaylist":"Dodaj do listy","addToVideoPlaylistTitle":"Dodaj do listy","settings":{"tabs":[],"tabUrl":"http:\/\/szkoly-psb.edu.pl\/wp-admin\/media-upload.php?chromeless=1","mimeTypes":{"image":"Obrazki","audio":"Plik d\u017awi\u0119kowy","video":"Filmy","application\/pdf":"PDFs"},"captions":true,"nonce":{"sendToEditor":"8d0e649ee4"},"post":{"id":0},"defaultProps":{"link":"file","align":"","size":""},"attachmentCounts":{"audio":1,"video":1},"oEmbedProxyUrl":"http:\/\/szkoly-psb.edu.pl\/index.php\/wp-json\/oembed\/1.0\/proxy","embedExts":["mp3","ogg","flac","m4a","wav","mp4","m4v","webm","ogv","flv"],"embedMimes":{"mp3":"audio\/mpeg","ogg":"audio\/ogg","m4a":"audio\/mpeg","wav":"audio\/wav","mp4":"video\/mp4","m4v":"video\/mp4","webm":"video\/webm","ogv":"video\/ogg","flv":"video\/x-flv"},"contentWidth":650,"months":[{"year":"2017","month":"8","text":"Sierpie\u0144 2017"},{"year":"2017","month":"4","text":"Kwiecie\u0144 2017"},{"year":"2016","month":"7","text":"Lipiec 2016"},{"year":"2016","month":"4","text":"Kwiecie\u0144 2016"},{"year":"2016","month":"3","text":"Marzec 2016"},{"year":"2016","month":"2","text":"Luty 2016"},{"year":"2015","month":"12","text":"Grudzie\u0144 2015"},{"year":"2015","month":"10","text":"Pa\u017adziernik 2015"},{"year":"2015","month":"9","text":"Wrzesie\u0144 2015"},{"year":"2015","month":"8","text":"Sierpie\u0144 2015"}],"mediaTrash":0}}; if ( ! _.isUndefined( html5types.mp3 ) ) { « Starsze wpisy })(); <# if ( 'image' === data.type && ! data.uploading ) { #> var _wpUtilSettings = {"ajax":{"url":"\/wp-admin\/admin-ajax.php"}}; <# } #> classes.push( 'vimeo-video' ); placeholder="Opis pliku dźwiękowego… " });
    Osadź odtwarzacz mediów <# } #> #>>

    strokeOpacity: line_opacity,
       
    Text Size

    दैनिक मनन

    कुछ नया, कुछ पुराना

    कुछ नया, कुछ पुराना

    ‘‘सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्टि हैः पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गई हैं’’। (2कुरिन्थियों 5:17)

    ज़ि‍न्‍दगी के कैनवास पर मनुष्‍य अक्‍सर नवीनता और परिवर्तन चाहता है। ज़रूरी नहीं कि‍ हर परिवेश में यह अच्‍छा ही हो, किन्‍तु नये वर्ष में अक्‍सर इस तरह की चर्चा होती है, संदेश होते हैं। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि स्‍वस्‍थ मानसिकता एवं प्रसन्‍नता के लिए आम जीवन की दिनचर्या और रोज़मर्रा की ज़ि‍न्दगी में कुछ न कुछ परिवर्तन होना अच्‍छा होता है। इसी वजह से जो व्‍यस्‍त और सम्‍पन्‍न लोग होते हैं, अक्‍सर गर्मी की छुट्टि‍यों में पहाड़ों पर चले जाते हैं, पर्यटन के स्‍थानों में जाकर एक भिन्‍न और तनावरहित वातावरण में अपना समय गुज़ारते हैं।

    प्रभु यीशु मसीह ने सदैव आंतरिक परिवर्तन और आत्मिक नवीनता की बात कही है। संसार बाह्य  अस्तित्‍व को देखता है किन्‍तु परमेश्‍वर हृदय को जांचता है। संसार की नज़र भौतिक वस्‍तुओं पर जाती है कि फलां व्‍यक्ति कैसे दिखता है, कैसे कपड़े पहनता है, किस तरह के घर में रहता है, कौन-कौन सी उपलब्धियां प्राप्‍त हैं इत्‍यादि-इत्‍यादि। ये बातें प्रमुख हो सकती हैं किन्‍तु प्राथमिक नहीं। प्राथमिक तो वही है, जो ईश्‍वर की दृष्टि में महत्‍वपूर्ण है।

    जीवन के प्रमुखतम- आधारभूत-ईश्‍वर प्रदत्‍त नियमों में से एक बात जो हमें सीखना है‍ कि हमारी उपलब्धियों, पदों और सोशल स्‍टेटस से बढ़कर प्रमुख बात यह है कि हम क्‍या हैं।

    हमें भी अपने जीवनों में नवीनता लाना है और परिवर्तन करना है, किंतु यह किसी भौतिक उपलब्धि से नहीं होगा वरन् जीवन में नवीनता और परिवर्तन आएगा, प्रभु यीशु मसीह की शिक्षाओं को जीवन में समाहित करने से, आत्‍मा के फल को अपने व्‍यवहार में उतारने से और अपने जीवन की बुराइयों को स्‍वीकार कर परमेश्‍वर के वचन से; उनकी प्रतिस्‍थापना करने से। इस आने वाले बर्ष में हमारे जीवन में भी ऐसी मसीही साक्षी हो कि लोग हमारे जीवन से प्रभु को देख सकें।


    प्रार्थना :- पिता परमेश्‍वर, हमें ऐसी समझ दे कि इस आने वाले वर्ष में अपने जीवन की प्राथमिकताओं को समझने वाले हों और तेरे वचन के अनुसार जीवन जीने वाले हों। आमीन।

     

    इलीशिबाः एक धन्‍य माता

    पीडीएफ़मुद्रणई-मेल

    इलीशिबा बाइबिल के चरित्रों में से प्रमुख ऐसी धार्मिक स्‍त्री है जिसने बुजुर्गावस्‍था में पुत्र को जन्‍म दिया और उसका पुत्र स्‍त्री से जन्‍में हुओं में श्रेष्‍ठ गिना गया।

    नाम का अर्थ – इलीशिबा का अर्थ है ‘‘ईश्‍वर मेरे जीवन की शपथ’’ या ‘‘ईश्‍वर भक्‍त’’। पुत्र यूहन्‍ना के होने के तुरन्‍त बाद जकरयाह ने परमेश्‍वर की भक्ति में जो गीत गाया, उसने इस बात को बतलाया कि किस प्रकार परमेश्‍वर ने जो शपथ इब्रा‍हीम से खायी थी, वह उसकी पत्‍नी के द्वारा पूर्ण हुई और उसके पुत्र का नाम युहन्‍ना रखा जाए क्‍योंकि यही स्‍वर्गीय इच्‍छा है। यूहन्‍ना के नाम का अर्थ है, ईश्‍वर के अनुग्रह और दया का प्रतीक, कि इस पुत्र के द्वारा आगे चलकर आने वाले प्रभु मसीह का मार्ग तैयार किया जायेगा।

    पारिवारिक पृष्‍ठभूमि – लूका के संदर्भित स्‍थल को पढ़कर हमें यह पता चलता है कि इलीशिबा, मूसा के भाई हारून याजक के परिवार से संबंधित थी अर्थात् वह एक प्रतिष्ठित याजक परिवार से संबद्ध थी (निर्गमन 6:23)। उसका पति जकरयाह भी एबिय्याह के दल का याजक था। इस विशेष दल के लोग सब्‍त के दिन से लेकर अगले सब्‍त के दिन पारी पारी मंदिर में अपनी सेवकाई दिया करते थे (1इतिहास 24:10)। इस प्रकार दोनों पति-‍पत्नि याजकों के परिवार से संबंधित थे। उस समय याजक को अच्‍छी पवित्र और धार्मिक स्‍त्री से ही विवाह किरने की इजाज़त थी (लैव्‍यव्‍यस्‍था 21:7) इलीशिबा, यूहन्‍ना बपतिस्‍मा देने वाले की माता बनी जो परमप्रधान का भविष्‍यवक्‍ता और प्रभु यीशु के लिये मार्ग तैयार करने वाला बना।

    बाइबिल के संदर्भ को पढ़कर हमें इलीशिबा के जिन चारित्रि‍क गुणों की शिक्षा मिलती है, वे इस प्रकार हैं –

    1. धर्मी महिला थी – इलीशिबा और जकरयाह दोनों के संबंध में यह कहा गया है कि वे परमेश्‍वर के सामने धर्मी थे (पद 6) और प्रभु की सारी आज्ञाओं और विधियों पर निर्दोष चलने वाले थे। किसी व्‍यक्ति विशेष के लिये परमेश्‍वर के वचन द्वारा इस प्रकार की प्रशंसा पाना कितने गौरव और सम्‍मान की बात है। इलीशिबा अपने सम्‍पूर्ण जीवन भर हारून महायाजक द्वारा परमेश्‍वर से ली गई विधियों और नियमों का निष्‍ठापूर्वक पालन करती रही और इसलिये परमेश्‍वर ने उसे विशेष रूप से आशीषित किया।

    2. सन्‍तान रहित या बांझ स्‍त्री थी – लिखा है कि उनकी कोई भी सन्‍तान न थी क्‍योंकि इलीशिबा बांझ थी और वे दोनों बूढ़े थे। उस समय इस्राएली महिलाओं के लिये इससे बड़ी त्रासदी और कोई नहीं हो सकती थी कि वे धार्मिक और पवित्र होने पर भी बांझ रह जायें क्‍योंकि प्रत्‍येक स्‍त्री इस बात की उम्‍मीद करती थी कि संसार का मसीहा शायद उसकी कोख से जन्‍म ले। बांझ होना असीमित पीड़ा, दुःख और अन्‍य स्त्रि‍यों के तीखे कटाक्षों को अश्रुपूर्ण प्रार्थना के साथ सहन करने की नियति होती थी। अब जब ये दोनों पति पत्नि बूढ़े हो चले थे और सन्‍तान उत्‍पत्ति की उम्‍मीद खत्‍म हो गयी थी, एक याजक की पुत्री और एक याजक की धार्मिक पतिब्रता पत्नि होने के नाते हव्‍वा से की गई प्रतिज्ञा के खत्‍म होने की उम्‍मीद भी टूट चुकी होगी और यह एक बड़ा दुःख इलीशिबा के जीवन में था।

    3. विशेष रूप से आशीषित महिला – जीवन के उस मोड़ पर जब जीवन की सारी आशायें छूट चुकी थीं फिर भी इस पवित्र और धार्मिक महिला ने कोई भी ऐसा कार्य नहीं किया जो ईश्‍वर की व्‍यवस्‍था के विरूद्ध हो, जो यह दर्शाये कि उसे अपने व्‍यक्तिगत और सामाजिक दुःख के कारण ईश्‍वर को कभी दोष दिया हो या उसकी भक्ति और धार्मिकता में कोई कमी आयी। ईश्‍वर ने उसके जीवन की इस कठिन अग्नि तपस्‍या पर मानो शीतल जल की फुहार दे दी, उसे ऐसी अवस्‍था में आश्‍चर्य जनक रूप से न सिर्फ माता होने का गौरव प्रदान किया वरन् उसके पुत्र को भी विशिष्‍ट बनाया और विशिष्‍ट रूप से इस्‍तेमाल किया। जकरयाह जब अपनी पारी के अनुसार मंदिर में सेवकाई का कार्य कर रहा था तब ईश्‍वर के दूत ने उससे कहा जकरयाह भयभीत ना हो तेरी प्रार्थना सुन ली गई है और तेरी पत्‍नी से तेरे लिये एक पुत्र उत्‍पन्‍न होगा और तू उसका नाम यूहन्‍ना रखना। ऐसा लगता है कि दोनों पति पत्‍नी परमेश्‍वर के इतने नज़दीक थे कि सन्‍तानोत्‍पति की अवस्‍था पार कर लेने पर भी उन्‍हें इस बात का पूर्ण विश्‍वास था कि सर्वसामर्थी ईश्‍वर अगर चाहे तो अब भी आश्‍चर्यकर्म कर उन्‍हें इस जग हंसाई से छुटकारा दे सकता है और इसलिये उन्‍होंने प्रार्थना करना न छोड़ा और उनकी प्रार्थना सुनी गयी। आश्‍चर्यकर्म हो गया और दूसरा महान आश्‍चर्यकर्म कि उसकी संबंधी कुंवारी मरियम के गर्भ से जगत के मसीहा के आने के पहली सूचना भी पवित्रात्‍मा द्वारा उसे दी गई।

    4. बहुत ही दीन एवं ईश्‍वर के आशीषों और अनुग्रह के प्रति सजग महिला थी – मरियम के आने पर उसने कहा मुझ पर यह अनुग्रह कहां से हुआ कि मेरे प्रभु की माता मेरे पास आयी और आनन्‍दपूर्वक उसने मरियम का स्‍वागत किया। उसे ज़रा भी ईर्ष्‍या या जलन नहीं हुई कि मुझ से छोटी बच्‍ची को प्रभु की माता बनने के लिये क्‍यों चुना गया, उसका विश्‍वास बहुत बड़ा था जो उसके व्‍यवहार से प्रगट होता था।

    5. पहुनाई व सही मार्गदर्शन करने वाली – मरियम जिसने बिना पुरूष देखे गर्भावस्‍था को प्राप्‍त किया था, उसके लिये यह समय बहुत कठिन रहा होगा। ऐसे समय में दृढ़ता व सही मार्गदर्शन प्राप्‍त करने के लिये उसे स्‍वर्ग दूत के द्वारा बुजुर्ग़, धार्मिक परिपक्‍व महिला इलीशिबा के पास ही भेजा जहां वह लगभग 3-4 माह रही और निश्चित रूप से दोनों महिलाएं एक दूसरे के सम्‍पर्क से ऐसे समय में आशीषित हुई।

    6. वह महिला जिसने सर्वप्रथम ईश्‍वर पुत्र को पहचाना – प्रभु यीशु मसीह के इस संसार में जन्‍म लेने से पहले तारे ज्‍योति‍षी और स्‍वर्गदूतों के गुणानुवाद के गीतों से पूर्व इलीशिबा ही ऐसी महिला थी जिस पर केवल अपने गर्भ के बालक उछलने से पवित्रात्‍मा द्वारा यह प्रगट हुआ कि मरियम के गर्भ का पुत्र प्रतिज्ञा की संतान है, यह प्रगटीकरण उसकी ईश्‍वर से समीपता को दर्शाता है। उसने मरियम को कम उम्र रिश्‍तेदारी के नाते नाम से नहीं पुकारा परन्‍तु कहा मेरे प्रभु की माता मेरे पास आयी है। इलीशिबा के इस अभिवादन का उत्‍तर भी मरियम ने पवित्रात्‍मा से परिपूर्ण होकर सुन्‍दर भजन पूर्ण प्रार्थना के रूप में दिया जो शमूएल की माता हन्‍ना के प्रार्थना से काफी मिलती है।
    (पढ़ि‍ये लूका 1:46-56; 2:1-10)

    आज इलीशिबा नाम सारे संसार में बहुत प्रसिद्ध है सभी देशों में रानियों से लेकर सामान्‍य स्‍त्रि‍यां भी गर्व के साथ इस नाम को रखती है लेकिन काश उनमें भी इलीशिबा के चरित्र के गुण आ जाएं तो इस संसार का भविष्‍य बदल जाए। इलीशिबा के जीवन से हमें धार्मिकता पूर्ण पवित्र प्रार्थनामय विश्‍वासी जीवन जीने की प्रेरणा मिलती है यदि हम नम्रता और दीनता के साथ परमेश्‍वर की इच्‍छानुसार जीवन यापन करते है तो निश्चित रूप से वह हमें सब आंसू पोंछकर हमारे जीवनों में ऐसे आश्‍चर्यकर्म करता है कि हम दूसरों के लिये आदर्श व आशीष का कारण बने।

    डॉ. श्रीमती शीला लाल

    Quick Navigation