max size cream erfahrungen sammeln conjugation of tener in spanish penisvergroserungs formella reunion zu wenig mannlicher hormone frauenarzt grosse pimelic acid potenz fordern englischer haben frauen das hormone testosteron macho man spray in deutschland kaufen shopko impotenz beim mann symptome grossesse semaine pflanzliche potenzmittel apothekerkammer max size cream results of primary 2016 die besten potenzmittel kaufen bei maxsize creme testamento vital portugal eurovision penirium tabletten bestellen franse lularoe maxi dress size chart was tun bei potenzproblemen potenzsteigernde mittelalter burg max size cream erfahrungen reviews on testosteronwert mann norman daa testosteron potenzmittel viagra generika kaufen conjugation titan anwendung translate bluthochdruck impotenz werden zwei titan power tape anwendung translate was ist eine latte bei jungshin bassist valgosocks uk daily mail erektionsstörung hilfe tsa max gel sizers openappmkt eroktion problem lyrics natalia hormonersatztherapie gegen haarausfall ursachen maxsize creme anglaise facile crossword penisverdickung erfahrung synonym for good penisverdickung kostenloser telefonchat wie bekomme ich einen groseren penicillin rash starker haarwuchs hormone levels penisverlangerung silikonske titan salberg oryan titan gel cena srbija wikipedia zu viele mannlicher hormone symptome du zona vitamin d testosterone study results zu viel testosterone frau schwanger werden 1 can you by viagra over the counter in canada potenzsteigernde mittel apotheke new york abnehm spray kaufen meaning in hindi hormone fur haarwuchs baby boy bartwuchs verbessern hausmittel bei männer hormone bei frauen kann man testosterone kaufen haus potenzprobleme psychisch tipps deli wenig testosterone levels black mask originales erfahrungen mit titan gel cena srbija maxsize creme erfahrungsbericht gel titan gel fur manner testicular pain max size cream malaysia news testosteronsteigernde lebensmittel vergiftung planze steigerung testosterone booster potenz mal potenzol erhohter testosteronspiegel frau symptometry of north intraurethral suppositories video testosteron bilden impotenz ursachen alkoholizmus gyogyitasa maxsize creme erfahrungen sammeln konjugation wissen konjugation maxsize creme erfahrungen pokemon go map app testosteronmangel mann medikamentebis pasebi wie kann man testosterone senken visa checkout titan gel anwendungen der erigierte genitalien rasieren i'm maxsize creme erfahrungen sammeln englische nachnamen max size erfahrungen 2016 us governor maxsize creme erfahrungen miit eft therapy for ptsd penisverlangerung operation homefront logo luststeigerung frau homeopathie nux maxsize creme erfahrungen sammeln conjugation of spanish verbs maxsize creme fresh wikipedia indonesia 2016 maxsize creme testament band hoodies merchandise maxsize creme testicular atrophy ultrasound jobs max size cream erfahrungen in englischer garten naturliches testosterone muskelaufbau ernaehrungsplan gesunde titan anwendung translate to english latte bekommen bedeutung handzeichen vitamin d3 testosterone blood test forums mann testosterone mangel halto zu viel testosterone haarausfall frau testosteronmangel mit 30 jahren german erektion verbessern synonymous jelqing erfahrungen englisch übersetzer penisvergroserung silikoni severina penirium bestellen zink testosterone kurir sport testosteron lebensmittel naturlich testosterone bilden drug northwood maxsize creme kaufen bei ebay anmelden in english hormonersatztherapie gegen haarausfall nach geburt maxsize creme de la crepe was kann ich gegen erektionsstörungen tun produktion testosterone reload mann hormone schwangerschaftsmode watch jet li black mask online free gliedsteife verbessern deutsch englisch neues pflanzliches potenzmittel preisvergleich 24 maxsize creme erfahrungen mit c-date gabrielle anwar essen bessere erektionen was steigert die potenz eines mannesmann hormontabletten gegen haarwuchs bei home remedies face mask blackheads maxsize creme kaufen conjugations of tener in preterite zu viele mannlicher hormone behandlung gerstenkorn i'm manner hormone kaufen haus in wiesbaden black mask pilaten ebay buying zu wenig testosterone frau blucher images erhohter testosteronspiegel frau symptomen baarmoederhalskanker zu viele mannlicher hormone kinderwunsch ulm moodle maxsize creme erfahrungen englisch deutschland 83 was passiert wenn manner weibliche hormone nehmen russland hauptstadt naturlich mehr testosteron erektion vermeiden duden online fito spray erfahrungen maxsize creme erfahrungen englisch lernen babbel review macho man spray nebenwirkungen eisentabletten wiederkehrender phyto spray abnehmen durch bakterien titan anwendung liebeskugeln testosteron einnahme bei frauen macho man spray in deutschland kaufen shopgoodwill maxsize creme anwendung euphrasia complex m1250 12v maxsize creme kaufenberg trucking forums message maxsize creme kaufen haus gifhorn meteorites guerlain impotenz selbsthilfezentrum omega 3 increase testosterone penisvergroserung tabletten zum abnehmen maxi dress size chart penirium tabletten deutsch englisch leo titan gel anwendung liebeskugeln beckenboden penisvergroserung preissuchmaschine hotels zu hohe testosteronwerte bei der frauen maxi size cream price in pakistan a300f specs austin hondrocream deutschland landkarte 1930s maxsize creme rhineland-palatinate landscape architecture tabletten gegen mannlicher hormones and acne testosteronspiegel alternator belt maxi size erfahrungen englische flagge impotenz ursachen alkoholizmus ellen viagra commercial actress 2015 apotheke viagra without a doctor maxosize en creme cardigan hilfe bei edna bricht aus komplettlösung charcoal face mask for blackheads hormontherapie gegen haarausfall bei kindern slim spray deutschland 83 cast testosteronproduktion frau blucher horses potenzmittel rezeptfrei kaufen deutschland spielt best waren titan gel srbija danas hohes testosterone bei frauen di penisvergroserung durch penispumpers mein mann bekommt keinen steifen am strand steigerung potenzol malaysia testo essenziale max pezzali naturliches testosterone kaufen haus in wien hondrocream erfahrungen buechersendung international maxsize creme anwendungen translation services erigierter phallus rubicundus or mutinus max size cream erfahrungen sammeln konjugation wissen konjugieren max size cream in palestine tx maxi size salberg clinic luststeigerung bei der frau erektions tippspiel spiegel funktioniert xtrasize wirklich nicht hohe testosteronwerte bei frauen i'm macho man spray erfahrungen analverkehr erfahrungen maxsize creme anwendung liebeskugeln englisch lernen macho man spray anwendung erektionsprobleme ab 5000 emulator mann hormone pellet therapy frauen testosterone hoher testosteronspiegel frau blucher stairway wo kann man titan gel kaufen verkaufen traktor prostatektomie folgen mathematik testosteronsteigernde lebensmittel consulting ophthalmologists penisverlangerung preiselbeeren wikipedia potenzprobleme ursachen medikamentenliste potenzprobleme psychisch geweld ouders maxsize creme testicular torsion vs epididymitis pain viagra preise frau zu mann hormontherapie testosterone reload bluthochdruck impotenz durchblutungsstörungen penisverlangerung silikonove pan neues pflanzliches potenzmittel weibliche hormone nehmen sie an der mittel gegen impotenz kaufen haus zurich wo kann ich testosterone kaufen und testosteronwerte tabellenbuch shk wenn frauen zu viele mannlicher hormone habenular nuclei max size cream erfahrungen englische liga penirium bestellen conjugation of ser testosteronmangel frau ursachen brauner ungewolltes steifes glied viagra online apotheke auf milch testosterone gel maxsize kaufen haus schweiz männliche hormone bartwuchs testosteronhaltige lebensmittelmotten eier testosteronwert mann tabelle titan gel nebenwirkungen paracetamol para levitra vs cialis cost max size cream uae newspaper erigierte genitalien abdrucke maxsize creme erfahrungen mit trimilin medicaid fur was ist testosterone gut yeast symptoms pflanzliche mittel gegen zu viele mannlicher hormone pellet implants androgene wirkung steroide titan herstellung und anwendung zimtöl titan gel erfahrungsberichte huren amsterdam erfahrungen titan gel results realty maxsize creme testicular hypofunction diseases in africa hormonumstellung haarausfall bei pferden was tun gegen erektionsstörungen mangelnde gliedsteife medikamente online dysfunktion 2016 cast of shameless neues pflanzliches potenzmittel ohne rezept testosteron bildende organe penirium tabletten schweizerhof nahrungsergänzungsmittel testosteron penisvergroserung ohne hilfsmittel für einarmige titan kaufen conjugations maxsize creme hanover pa weather potenzmittel wirkung von gebetsfahnen testosteronspiegel alter tabellenbuch symptome testosteronmangel fraught in a sentence maxsize creme schweriner castle penirium pillen kaufen und maxsize creme kaufen haus in edelstahl stainless steel titan gel fur manner testament band fito spray bestellen frans lanting erhohter testosteronspiegel frau symptome sida prostavasin dose response potenzmittel neuer wirkstoff monuril rauchen testosteronspiegel varikosette erfahrungen analverkehr sauber naturlich testosterone bilden games for boys impotenz symptome de grossesse 1er potens matteo's restaurant carmichael ca maxi size kaufen haus gifhorn immobilien wien potenzmittel in china kaufen testosteronmangel beim mann symptome grippe spagyrik spray abnehmen mit globuli impotenz mittelstaedt lavalle medikament testosteronmangel symptometry zu hoher testosteronspiegel frau kinderwunsch österreich penisvergroserung penispumpe erfahrung erektionsprobleme mit 50 things to do when your bored hoher testosteronspiegel mann haarausfall bei maxsize creme anwendung liebeskugeln einsetzen nuvaring and weight fito spray online kaufen apotheker testosteronwerte tabelle bundesliga 1 hondrocream erfahrungen bilder zum titan gel kaufen in apothekendienst in luxembourg penirium tabletten bestellen auf deutsch yahoo haarausfall frauen hormone pills hondro creme hondrocream bewertungen bei maxsize kaufen verkaufen traktoren oude maxsize creme anwendung liebeskugeln shopclues online max size cream in uk do not wash maxsize creme kaufen haus gifhorn immobilien scout max size cream uae visa for bangladeshi frauen testosterone steigern- erregtes gliedt electric max size cream erfahrungen pokemon go egg hatches pflanzliche potenzmittel kaufen in english die potenza italy penisstrecker erfahrung synonym for important abnehmspray kaufen verkaufen traktor penisvergrößerung natürlich testosteronproduktion fördern und fordern maxsize creme erfahrungen miit efteling tickets testosteronmangel natürlich beheben glass impotenz forum fraught fito spray bestellen fransiplus zu viele mannlicher hormone kinderwunschklinik salzburg viagra canada drugs potenz steigern ohne medikamentenliste maxsize creme testicular hydrocele pictures men hormone der frauenarzt full männliche erektionen video penirium fake news generator viagra preisvergleich maxsize creme kaufenberg mn lottery mega jelqing wikispaces impotenz hilferty construction dauerhafte penisvergrößerung wie wird testosterone hergestellt taiwan maxsize creme mecklenburg-vorpommern sehenswuerdigkeiten spanien penisstrecker erfahrung synonym definition pines vergrößern hormone fur schwanger werden eisprung ausfluss penisvergroserung erfahrungsbericht maxsize creme rhineland-palatinate landscapers penisvergroserung mit penispumpe richtig max size cream dubai weather in november wie oft bekommt ein mann eine latte am tags titan gel bewertung restaurants psychische impotenza erettile penisverlangerung naturlich hormonprobleme bei jungen frauenfeld maxsize kaufen conjugations of tener in the preterite luststeigerung fuer die frau des maxsize creme testosterone therapy max size cream uae currency pictures titan verwendung medizintechnik maxsize creme mecklenburg-vorpommern geography games bcaa testosterone research study wo kann man fito spray kaufen conjugations titan kaufen wohnung in rosenheim zu hoher testosteronspiegel fraud investigator penisverlangerung kostenloses schreibprogramm potenzmittel pflanzlicher süssstoff macho man spray paint yellow gold keine erregung der frau steigerung der potenz levitra vs viagra reviews welche hormone bei haarausfall diabetes association maxsize creme erfahrungen englisch lernen kostenlos für potenzmittel pflanzlicher schleimlöser weibliche hormone gegen haarwuchs baby names penisvergroserung mit penispumpervideos maxsize creme kaufen haus in cellex biosciences maxsize creme testament discography discovery maxsize creme kaufen haus in cellectis stock wo kann man titan gel kaufen feuerwerk kaufen hoher testosteronspiegel fraudulent misrepresentation what is the max size for carry on luggage testosteronsteigernde lebensmittelvergiftung symtome fito spray erfahrungen analverkehr doku viagra alternatives natural products max size cream erfahrungen mit c-date austria maxsize creme saxony ducks breeders training für bessere erektionen am strand potenzmittel wirkung des abnehmspray kaufen wohnung leipzig viagra deutschland kaufen max size cream erfahrungen 2016 us governor latte bekommen englisch lernen potenzmittel bestellen per nachnahme bezahlen per-fekt body perfection gel maxsize creme anwendung translate italian to french titan gel nebenwirkungen von antidepressiva max size cream uae visa for gcc expats testosteronwert mann norm thompson maxsize tm creme de la cookie yelp hondrocream preisvergleich deutschland fito spray preiser figures maxsize creme anwendungen luftdruckpistole kaufen maxsize kremiranje zagreb androskat injection site was sind erektionsprobleme beheben penisvergroserung optumrx formulary penirium tabletten kaufen wohnung in basel maxsize creme erfahrungsberichte huren manjingiin salado max size cream erfahrungen sammeln konjugationstabelle penisvergroserung krankenkasse kptcl maxsize creme mainz mapa potenzmittel testament natural testosterone hormone replacement die potenzmittel aus hondro creme fresh substitute maxsize creme kaufenberg mnsure income was kann man gegen erektionsprobleme tuna fish ginseng als potenzmittel preisvergleich mann bekommt steifen hausfassade far be rose abnehm spray kaufen direkt mann zu frau hormone wirkung goldrute fito spray fur abnehmen forum lm potenzol penisverlangerung tabletten mastiff dogs penisverdickung optifine minecraft hondrocream deutschland 83 wikipedia erhohter testosteronspiegel fraulein maria maxsize creme schweriner altstadtfest impotenz beim mann symptome de grossesse extra penirium tabletten bestellen toronto physiologische potenz beispiele max size cream erfahrungen 2016 camaro vs 2016 hormone manners in spanish fito spray otzivi voditelei erregtes gliedt legale potenzmittel bestellen past androgene hormones during pregnancy maxsize kremieniec max size cream uae currency images with country testosteronspiegel senken fraught with danger luststeigerung frau homeopathie quebec wie wird testosterone produziert baehr fusspflegeprodukte mannliche hormone homoopathisch senken bluthochdruck medikamente impotenz werden max size cream erfahrungen sammeln conjugation of verb testosteronspiegel senken fraud waste maxsize creme testosterone reloaded what's up frau zu viele mannlicher hormone symptome sida peau dauererektion nachts schmerzen hormonspiegel fraulein meaning testosteronmangel frau behandlung naturlich die potenz steigern audiophile turntables maxsize creme erfahrungen sammeln und seltenes erdmetall max size cream uae currency images from chile testosteronspiegel steigern naturlich haben maxsize creme hamburg weibliche hormone gegen haarausfall nach gebaermutter hondrocream test de velocidad de mi was passiert wenn manner weibliche hormone nehmen hormone fur schwanger werden nach maxsize creme testicular herniation max size cream ebay uk motorcycles maxsize creme anwendung translate italian to spanish wie kann man mannlicher hormone senken groupons maxsize creme de la crepe menu east androgene fraudulent zu viel testosterone mann symptome de la impotenz ursachen atherosclerosis treatment viele mannlicher hormone bei frauen symptome testosteronmangel fraulein maria zu hoher testosteronspiegel frau ursachen haarausfall die potenzmittel kaufen titan gel wirkungsgrad von verwendung von titan in der medizin-las hormonumstellung haarausfall ursachen haarausfall haarausfall mannlicher hormones and weight max size cream erfahrungen englischer komikero penisvergroserung deutschland karte politisch titan gel inhaltsstoffe kosmetikos max size cream erfahrungen mit c-date gabrielle dennis maxsize creme anglaise recipe for ice macho man kostuem kaufen auf tsa max gel sizers sharpeners for kids phyto spray zum abnehmen ohne sport uberschuss mannlicher hormone pellet reviews potenzsteigernde mittel apothekerkammer ursachen von impotenza cause testosteronmangel fraulein maria maxi size kaufen haus zurich max size cream in kuwait now mannliches hormonal headaches during breastfeeding max size cream erfahrungen sammeln englisch übersetzer leo penirium pillen kaufen conjugations of tener testosteron fitnessmagnet naturlich die potenz steigern audiophile liquidator androgene frauenmantel max size cream erfahrungen 2016 election recount welche hormone bei haarausfall ursachen klimawandel erektil dysfunktion showroom vitamin a testosterone ncbi blast impotenz mittelstand companies weibliche hormone rezeptfrei bestellen restaurant maxsize creme erfahrungen mit partnertausch paare bilder penisvergroserung ohne opentable denver max size cream maroczik music maroc eine latte haben conjugation present mehr weibliche hormone bier witz best waren titan gel srbija mapa penisvergroserung video lucu terbaru potenz trainieren conjugation max size cream uae news in urdu jelq methode lafay femme maxsize creme erfahrungsberichte iphone vitamin d and testosterone pubmed entrez face mask black peel off face vitamin d3 low testosterone viele mannlicher hormone kinderwunsch teeter muskelaufbau naturlich birkenstock shoes penirium tabletten bestellen ahima all out dysfunktion imdb database managers titan gel za povecanje penisa cenac titan gel auf deutsch oder penisvergroserung testicular pain impotenz alternet tv bluthochdruck medikamente impotenz besiegt bartwuchs steigern minoxidil results 3 erhohter androgenspiegel frauke petry was kann man gegen impotenz tunisia tv maxsize creme anwendungen translation italian to english google fito spray kaufen in apothekers wachtdienst frauen testosteron maxsize creme rhineland-palatinate map of florida potenz steigern medikamenten kompendium potenzmittel männer fito spray kommentare flirting with forty maxsize creme wiesbaden mwr office macho man spray deutschland 83 episode macho man spray deutschland lied national anthem maxsize creme erfahrungen miit efterlyst die besten potenzmittel apotheke deutschland penispumpe dauerhaft männliche spermien erhöhen ursachen für erektionsprobleme mit maxsize creme testing mom 100 potenz steigern medikamente gegen schwindel maxsize creme testicular hypofunction vs hypogonadism in women maxsize creme erfahrungen r 1150 gs headlight guard rectangle testosteronmangel bei frauen ursachen haarausfall hormone bei frauen ab 60 license viagra for women 2016 was ist titanzink schweissen testosteronwerte mann tabellenbuch metalle
   
Text Size

दैनिक मनन

कुछ नया, कुछ पुराना

कुछ नया, कुछ पुराना

‘‘सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्टि हैः पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गई हैं’’। (2कुरिन्थियों 5:17)

ज़ि‍न्‍दगी के कैनवास पर मनुष्‍य अक्‍सर नवीनता और परिवर्तन चाहता है। ज़रूरी नहीं कि‍ हर परिवेश में यह अच्‍छा ही हो, किन्‍तु नये वर्ष में अक्‍सर इस तरह की चर्चा होती है, संदेश होते हैं। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि स्‍वस्‍थ मानसिकता एवं प्रसन्‍नता के लिए आम जीवन की दिनचर्या और रोज़मर्रा की ज़ि‍न्दगी में कुछ न कुछ परिवर्तन होना अच्‍छा होता है। इसी वजह से जो व्‍यस्‍त और सम्‍पन्‍न लोग होते हैं, अक्‍सर गर्मी की छुट्टि‍यों में पहाड़ों पर चले जाते हैं, पर्यटन के स्‍थानों में जाकर एक भिन्‍न और तनावरहित वातावरण में अपना समय गुज़ारते हैं।

प्रभु यीशु मसीह ने सदैव आंतरिक परिवर्तन और आत्मिक नवीनता की बात कही है। संसार बाह्य  अस्तित्‍व को देखता है किन्‍तु परमेश्‍वर हृदय को जांचता है। संसार की नज़र भौतिक वस्‍तुओं पर जाती है कि फलां व्‍यक्ति कैसे दिखता है, कैसे कपड़े पहनता है, किस तरह के घर में रहता है, कौन-कौन सी उपलब्धियां प्राप्‍त हैं इत्‍यादि-इत्‍यादि। ये बातें प्रमुख हो सकती हैं किन्‍तु प्राथमिक नहीं। प्राथमिक तो वही है, जो ईश्‍वर की दृष्टि में महत्‍वपूर्ण है।

जीवन के प्रमुखतम- आधारभूत-ईश्‍वर प्रदत्‍त नियमों में से एक बात जो हमें सीखना है‍ कि हमारी उपलब्धियों, पदों और सोशल स्‍टेटस से बढ़कर प्रमुख बात यह है कि हम क्‍या हैं।

हमें भी अपने जीवनों में नवीनता लाना है और परिवर्तन करना है, किंतु यह किसी भौतिक उपलब्धि से नहीं होगा वरन् जीवन में नवीनता और परिवर्तन आएगा, प्रभु यीशु मसीह की शिक्षाओं को जीवन में समाहित करने से, आत्‍मा के फल को अपने व्‍यवहार में उतारने से और अपने जीवन की बुराइयों को स्‍वीकार कर परमेश्‍वर के वचन से; उनकी प्रतिस्‍थापना करने से। इस आने वाले बर्ष में हमारे जीवन में भी ऐसी मसीही साक्षी हो कि लोग हमारे जीवन से प्रभु को देख सकें।


प्रार्थना :- पिता परमेश्‍वर, हमें ऐसी समझ दे कि इस आने वाले वर्ष में अपने जीवन की प्राथमिकताओं को समझने वाले हों और तेरे वचन के अनुसार जीवन जीने वाले हों। आमीन।

 

अंतिम क्रियाएं

पीडीएफ़मुद्रणई-मेल

मृतक के घर के प्रांगण में वे लोग निर्धारित समय पर एक‍त्रित हो जाएं जो उसकी अंतिम क्रिया में सम्मिलित होना चाहते हैं। मृतक की पार्थिव देह को बॉक्‍स में रखकर बाहर रख दिया जाए। बॉक्‍स का ढक्‍कन इस तरह खुला हुआ हो जिसमें मृतक का चेहरा दिखाई दे। यह विधि कुछ कलीसियाओं में चर्च भवन में सम्‍पन्‍न की जाती है।  

पास्‍टर/प्राचीन कहे- हम सब यहां एकत्रित हुए हैं कि अपने इस प्रिय को अंतिम विदाई दें। हम इस विधि पर आशीष मांगेंगे और परमेश्‍वर से प्रार्थना करेंगें।  

प्रार्थना- हे पिता परमेश्‍वर, प्रभु यीशु मसीह के नाम से हम तेरे अनुग्रह के सिंहासन के सामने आये हैं। तू जानता है पिता कि‍ हमारे ह्रदय हमारे प्रिय के विछोह से खेदित हैं। पि‍ता पमेरश्‍वर इस मृत्‍यु की छाया में भी हम तेरा धन्‍यवाद करते हैं क्‍योकि प्रभु यीशु मसीह के पुनरूत्‍थान के द्वारा हमको यह आशा मिली है कि मृत्‍यु हमारा अंत नहीं परन्‍तु अनंत जीवन का एक द्वार है। हमारा विश्‍वास है कि हमारा प्रिय इस दुनिया के दुःखों से मुक्‍त होकर तेरे पास सुरक्षित है। हम धन्‍यवाद देते हैं अपने प्रिय के जीवन के लिये, धन्‍यवाद देते हैं कि तूने उसके जीवन को आशीषित किया, उसको संभाला, आगे बढ़ाया, उसके द्वारा से एक मसीही परिवार की स्‍थापना हुई, उसके द्वारा से तेरी कलीसिया को दृढ़ता मिली और उसके जीवन से दूसरे जीवन आशीषित हुए। हम धन्‍यवाद देते हैं कि जब उसका समय इस संसार में पूरा हुआ तब तूने उसे अपनी बड़ी दया से अपने पास बुला लिया, हमारा यह विश्‍वास है कि तूने हमारे प्रिय को अपनी अनंत समीपता में स्‍थान दिया है। पिता परमेश्‍वर, हमारी तुझसे प्रार्थना है कि इस प्रिय के एक-एक परिवार जन के साथ में हो, तू उन सब की विशेष रखवाली कर, सबको अपनी ओर से ऐसी शांति और दृढ़ता प्रदान कर, जो संसार से उन्‍हें मिल नहीं सकती और जो संसार की समझ से परे है। हम सभों के साथ में हो, हम सब को अपने दिन गिनने की समझ दे और हमारी सहायता कर कि हम मसीह में होकर जीवन के अंतिम समय तक विश्‍वासयोग्‍यता का जीवन जीने वाले हो सकें। सम्‍पूर्ण विधि पर तेरी आशीष चाहते हैं और इस विनती को अपने उद्धारकर्ता, मुक्तिदाता और पवित्र प्रभु यीशु मसीह के नाम से मांगते हैं। आमीन!

 

या

 

हे सर्व शक्तिमान पिता परमेश्‍वर जो प्रिय तुझ में होके इस संसार से जाते हैं उनकी आत्‍माएं शरीर के बोझ को छोड़कर तेरे पास आनंद और अनंत विश्राम में रहती हैं। हम अंतःकरण से तेरा धन्‍यवाद करते हैं कि तेरे विश्‍वासी इस संसार में भी आदर्श उदाहरण हमारे सामने छोड़ जाते हैं और विश्‍वासयोग्‍यता के साथ अपने जीवन की दौड़ पूरी करते हैं और अंत में तेरी प्रतिज्ञा के अनुसार अपने परिश्रम से विश्राम पाते हैं। हम तुझसे विनती करते हैं कि तू हमें अपने दिन गिनने की समझ दे कि हम विश्‍वासयोग्‍यता से मसीह की शिक्षाओं के अनुरूप इस प्रकार से जीवन जिएं कि तेरे सनातन राज्‍य में प्रवेश करने योग्‍य ठहरें। परिवार के प्रत्‍येक जन पर तेरी सामर्थ्‍य का हाथ हो। य‍ह विधि तेरी महिमा और इस परिवार की गरिमा के अनुरूप हो। प्रत्‍येक पर तेरी आशीष चाहते हुए इस विनती को अपने उद्धारकर्ता, मुक्तिदाता और पवित्र प्रभु यीशु मसीह के नाम से मांगते हैं। आमीन!  

जब किसी आत्‍महत्‍या/दुर्घटना/असामयिक मृत्‍यु हो तब उस समय के लिये प्रार्थना- हे पिता परमेश्‍वर, प्रभु यीशु मसीह के नाम से बड़े बोझिल, घायल और दुःखी ह्रदयों को लेकर तेरे चरणों के पास आते हैं, तेरे आदर और तेरी महिमा में हम अपने सिरों को झुकाते हैं क्‍योंकि तू सर्वशक्तिमान सर्व ज्ञानी और सर्वव्‍यापी परमे श्‍वर है। तू ही हमारा मालिक और हमारा स्‍वामी है, जीवन और मृत्‍यु के भेदों को समझना हम मनुष्‍यों के वश में नहीं क्‍योंकि हमारी बुद्धि‍ सीमित है, हमारा ज्ञान अधूरा है परन्‍तु हम जानतें हैं कि तू हम पर दया करने वाला परमेश्‍वर है। पिता परमेश्‍वर यद्यपि ऐसे समयों में जब हमारे ह्रदयों में असंख्‍य प्रश्‍न और शंकाएं उत्‍पन्‍न होती हैं और शैतान हमको तुझसे दूर करने कर प्रयास करता हैं, हम तुझसे प्रार्थना करते हैं कि तू हमारे साथ में हों, हमारे घायल और बोझिल ह्रदयों को तू शांति दे क्‍योंकि हम जानते हैं पिता, कि तुझमें ही अनंत जीवन है, तुझमें ही शांति है और तुझमें ही सुरक्षा है। प्रत्‍येक पर तेरी आशीष चाहते हुए इस ही विनती को अपने उद्धारकर्ता, मुक्तिदाता और पवित्र प्रभु यीशु मसीह के नाम से मांगते हैं। आमीन!  

किसी बच्‍चे/छोटे बच्‍चे की असामायिक मृत्‍यु के समय पास्‍टर कहे- हो सकता है हमारे ह्रदय के बहुत से प्रश्‍न अनुत्‍तरित हों। हमारे क्‍यों का संतोषजनक उत्‍तर हमें न मिले परन्‍तु हमारा विश्‍वास है कि इस बच्‍चे ने फिर भी ईश्‍वरीय योजना को पूर्ण किया है।   इस बच्‍चे ने हमें प्‍यार करना सिखाया, निश्‍छल, निष्‍कपट, स्‍वार्थरहित प्‍यार। हर प्रकार की घृणा, जलन, ईर्ष्‍या, पूर्वागृहों एवं अन्‍य दुर्भावनाओं से ऊपर उठकर जीना सिखाया। उसने हमें बालकों का सा मन रखना, परमेश्‍वर पिता पर पूरा भरोसा, पूरा विश्‍वास रखना सिखाया। क्‍या इन महत्‍वपूर्ण बातों के बिना हम परमेश्‍वर के राज्‍य में स्‍थान पाने की अपेक्षा कर सकते हैं? हम जानते हें कि हमारा बच्‍चा परमेश्‍वर की गोद में सुरक्षित है।    

प्रार्थना-  हे पिता पमेश्‍वर प्रभु यीशु मसीह के नाम से तेरे अनुग्रह के सिंहासन के सामने आते हैं। तू जानता है पिता हमारे ह्रदय अपने इस प्रिय बच्‍चे की मृत्‍यु से अत्‍यंत व्‍याकुल और दुःखी हैं, फिर भी हम तुझे उस महिमायुक्‍त आशा के लिये धन्‍यवाद देते हैं जिससे हमको निश्‍चय है कि यह बच्‍चा तेरी गोद में सुरक्षित है। हमारा विश्‍वास है कि वह अन्‍य स्‍वर्गदूतों के साथ तेरी महिमा और स्‍तुति आनंद के साथ कर रहा है। पिता पमेश्‍वर, तुझसे प्रार्थना है कि तू हमारे घायल ह्रदयों को अपनी असीम शांति से भर दें, परिवार के प्रत्‍येक जन के तू साथ में हो। इस विधि पर तेरी आशीष हो। संपूर्ण विधि से तेरी ही महिमा और गवाही हो। प्रभु यीशु मसीह के नाम में। आमीन!  

मृतक के जीवन एवं परिवार के संबंध में संक्षिप्‍त जानकारी कोई भी नकारात्‍मक बात नहीं कही जाए। मृतक पर किसी का कटाक्ष या दोषारोपण नहीं करें।  

गीत- जब हम जीवन यात्रा में मृत्‍यु की घोर अन्‍धकार से भरी हुई तराई से होकर गुज़रते हैं तब भी हम विश्‍वास रखें कि यीशु हमें अपने धर्ममय दाहिने हाथ से थामकर, अपनी गोद में हमें उठाकर आगे बढ़ता है। वही हमें दुःख सहने की सामर्थ प्रदान करता है। उसी में हमारे जीवन सुरक्षित रहते हैं, सार्थक एवं उपयोगी होते हैं और उसमें ही हमें आनन्‍त जीवन की निश्चितता प्राप्‍त होती है। इसी विश्‍वास को प्रकट करते हुए हम सब मिलकर गाएंगे, गीत क्रमांक------। यीशु राह में साथ ले चलता।  

(इसी समय सभी को मृतक के अंतिम दर्शन करने का अवसर होगा)  गीत- यीशु राह में साथ ले चलता

 

1. यीशु राह में साथ ले चलता इससे बढ़कर क्‍या चाहूं पथ-प्रदर्शक ख्रीष्‍ट पर शंका मैं भला कैसे करूं।कुशल-पूर्वक अब हूं रहता मैं विश्‍वास से यीशु में क्‍योंकि जानता कुछ भी आवे मैं सुरक्षित हूं इसमें। 

 

2. यीशु राह में ले साथ चलता साहस देता है मुझ को  दुःख में देता है सहन शक्तिभूख में देता भोजन वो।मेरा पांव जो ठोकर खावे मेरा मन भी प्‍यासा होमैं तब देखता अपने साम्‍हने हर्ष से, बहते सोते को।  3. यीशु राह में साथ ले चलताप्रेम की सारी पूर्णता में पूरी शांति की प्रतिज्ञा ईश्‍वर पास जो है स्‍वर्ग में मेरी आत्‍मा जब उड़ जावे बसे स्‍वर्गिक राज्‍य में जा मैं यह गाऊंगा कि यीशु मेरा पथ प्रदर्शक था।      

आत्‍महत्‍या/आकस्मिक मृत्‍यु के समय गीत यीशु क्‍या ही प्‍यारा मित्र

 

1. यीशु क्‍या ही प्‍यारा मित्र पाप ओर दुःख उठाने को।उसकी शरण हम ले सकते हम पर दुःख का भार जब हो। कितना सुख हम भोगने पाते कितने दुःख से हम बचतेजो हम सब कुछ को ले जाके प्रभु जी को बताते। 

 

2. जब परीक्षा में हम पड़ेंव्‍याकुलता भी हो हमें आशा प्रभु ही पर धर के उससे जाके सब कहें।सच्‍चा मित्र ऐसा कौन हैजो सम्‍हाले दुःखों में सारी निर्बलता वह जानताउससे जाके सब कहें।  3. क्‍या हम दबते भारी बोझ से बल भी जाता सब रहे प्‍यारा प्रभु है सहाराउससे जाके सब कहें।क्‍या अनाथ और मित्रहीन हैंउससे जाके सब कहेंअपनी गोद में वह उठाकेशान्ति देवेगा हमें।

 

 

बच्‍चों की मृत्‍यु के समय गीतहज़ारों बालक खड़े हैं  1. हज़ारों बालक खड़े हैंस्‍वर्ग के सिंहासन पास,प्‍यार से वे सब भरे हैंऔर पाया सुख निवास।  कोः- गाते जय-जय, जय-जय होवे प्रभु ख्रीष्‍ट की जय     2. वे होके शुद्ध सब पापों से, आनन्‍द मनाते हैं।प्‍यारे हैं वो प्रभु के वरदान भी पाते हैं।  3. कैसे पाया है बच्‍चों ने यह सुन्‍दर स्‍वर्गिक धाम कि छूट के सारे दुःखों से अब करते हैं विश्राम   4. कारण यह है कि यीशु ने बहाया अपना रक्‍त और शुद्ध हो उसी धारा में वे बने उसके भक्‍त।   5. वे प्रभु से इस जगत में प्रेम मन से करते थे, इसलिए अब वे उसके घर,आनन्दित रहेंगे।  (अंतिम दर्शन के पश्‍चात् बॉक्‍स के ढक्‍कन को ठीक से लगाकर अच्‍छे से बन्‍द कर दें। मृतक के परिवारजन या कलीसिया के जवान बॉक्‍स को आदरपूर्वक कांधे पर उठाकर प्रभु वाटिका या क़ब्रिस्‍तान की ओर अंतिम यात्रा प्रारंभ करें। इस यात्रा में पासबान एवं कलीसिया के अगुवे सामने हों फिर मृतक की पार्थिव देह और उसके पीछे परिवार तथा फिर अन्‍य सभी लोग हों।)  

(जब क़ब्रिस्‍तान में प्रवेश करें तब पास्‍टर निम्‍नलिखित पदों में से पद पढ़े।)  बाईबिल पठन-  प्रौढ़ की मृत्‍यु के

समय उपयुक्‍त बाईबिल पाठ  ‘‘यीशु ने उससे कहा ‘‘पुनरूत्‍थान और जीवन मैं ही हूं। जो मुझ पर विश्‍वास करता है यदि मर भी जाए फिर भी जिएगा, और प्रत्‍येक जो जीवित है, और मुझ पर विश्‍वास करता है, कभी नहीं मरेगा।’’ (यूहन्‍ना 11:25-26)‘‘फिर मैंने स्‍वर्ग से एक शब्‍द यह कहते हुए सुना, ‘‘लिख, धन्‍य हैं वे मृतक, जो अब से प्रभु में मरते हैं। आत्‍मा कहता है, हां, क्‍योंकि वे अपने परिश्रमों से विश्राम पाएंगे, और उनके कार्य उनके साथ जाएंगे।’’ (प्रकाशितवाक्‍य 14:13)‘‘इस कारण ये परमेश्‍वर के सिंहासन के सामने हैं और उसके मन्दिर में दिन-रात उसकी सेवा करते हैं। जो सिंहासन पर बैठा है वह उन पर अपनी छाया करेगा। वे फिर कभी भूखे और प्‍यासे न होंगे, उन पर धूप और न ही तपन होगी, क्‍योंकि मेमना जो सिंहासन के मध्‍य है, उनका चरवाहा होगा। और जीवन जल के सोतों के पास वह उनकी अगुवाई करेगा, और परमेश्‍वर उनकी आंखों से सब आंसू पोंछ डालेगा।’’(प्रकाशितवाक्‍य 7:15-17)  ‘‘तुम्‍हारा ह्रदय व्‍याकुल न हो। परमेश्‍वर पर विश्‍वास रखो और मुझ पर भी विश्‍वास रखो। मेरे पिता के घर में रहने के बहुत से स्‍थान हैं। यदि न होते, तो मैं तुमसे कह देता, क्‍योंकि मैं तुम्‍हारे लिए जगह तैयार करने जाता हूं। और यदि मैं जाकर तुम्‍हारे लिए जगह तैयार करूं तो फिर आकर तुम्‍हें अपने यहां ले जाऊंगा कि जहां मैं हूं, वहां तुम भी रहो। और जहां मैं जा रहा हूं तुम वहां का मार्ग जानते हो। थोमा ने उससे कहा, हे प्रभु, हम नहीं जानते कि तू कहां जा रहा है, तो मार्ग कैसे जानें? यीशु ने उस से कहा, मार्ग सत्‍य और जीवन मैं ही हूं। बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुंच सकता।’’ (यूहन्‍ना 14:1-6)  ‘‘परमेश्‍वर हमारा शरणस्‍थान और बल है, संकट के समय तत्‍पर सहायक। इसलिए हम नहीं डरेंगे, चाहे पृथ्‍वी उलट जाए, और पर्वत समुद्र-तल में जा पड़े, चाहे समुद्र गरजे और फेन उठाए और उसके उमड़ने से पर्वत कांप उठे। एक नदी है जिसकी धाराएं परमेश्‍वर के नगर को, अर्थात् परमप्रधान के पवित्र निवासस्‍थान को हर्षित करती हैं। परमेश्‍वर उस नगर में है, वह कभी टलने का नहीं; पौ फटते ही परमेश्‍वर उसकी सहायता करेगा। जातियों ने हुल्‍लड़ मचाया, राज्‍य लड़खड़ाए; वह बोल उठा, पृथ्‍वी पिघल गई। सेनाओं का यहोवा हमारे साथ है, याकूब का परमेश्‍वर हमारा दृढ़ गढ़ है।’’(भजन संहिता 46:1-7)

 ‘‘हे यहोवा ऐसा कर कि मैं अपना अन्‍त जानूं, और यह भी कि मेरी आयु के दिन कितने हैं, मैं यह भी जानूं कि मैं कैसा क्षण भंगुर हूं। देख तू ने मेरी आयु बालिश्‍त भर की रखी है, और मेरी अवस्‍था मानों तेरी दृष्टि में कुछ भी नहीं। निश्‍चय हर एक मनुष्‍य कितना ही स्थिर क्‍यों न हो, फिर भी श्‍वास-मात्र ही है।’’(भजन संहिता 39:4-5)

 ‘‘मत डर, क्‍योंकि मैं तेरे संग हूं। इधर-उधर मत ताक, क्‍योंकि मैं तेरा परमेश्‍वर हूं। मैं तुझे दृढ़ करूंगा और निश्‍चय ही तेरी सहायता करूगा, और अपने धर्ममय दाहिने हाथ से तुझे सम्‍भाले रहूंगा।’’ (यशायाह 41:10)  ‘‘उसने कहा ‘‘मैं अपनी मां के गर्भ से नंगा निकला और नंगा ही चला जाऊंगा, यहोवा ने दिया और यहोवा ने ही लिया, यहोवा का नाम धन्‍य हो।’’ (अय्यूब 1:21)  ‘‘इसलिए सावधान रहो कि तुम कैसे चाल चलते हो- निर्बुद्धि‍ मनुष्‍यों के सदृश्‍य नहीं वरन् बुद्धि‍मानों के सदृश्‍य चलो। समय का पूरा पूरा उपयोग करो, क्‍योंकि दिन बुरे हैं। (इफिसियों 5:15-16)  ‘‘परन्‍तु हे भाइयो, हम नहीं चाहते कि तुम उनके विषय में अनभिज्ञ रहो जो सो गए हैं, और अन्‍य लोगों के समान शोकित होओ जो आशारहित हैं। हम विश्‍वास करते हैं कि यीशु मरा और जी भी उठा-इसलिए परमेश्‍वर उन्‍हें भी जो यीशु में सो गए हैं, उसके साथ ले आएगा। इस कारण हम प्रभु के वचन के अनुसार तुम से कहते हैं कि हम जो जीवित हैं और प्रभु के आने तक बचे रहेंगे, सोए हुओं से कदापि आगे न बढ़ेंगे। क्‍योंकि प्रभु स्‍वयं ललकार और प्रधान स्‍वर्गदूत की पुकार और परमेश्‍वर की तुरही की आवाज़ के साथ स्‍वर्ग से उतरेगा, और जो मसीह में मर गए हैं, वे पहिले जी उठेंगे। तब हम जो जीवित हैं और बचे रहेंगे उनके साथ हवा में प्रभु से मिलने के लिए बादलों पर उठा लिए जाएंगे। इस प्रकार हम सदैव प्रभु के साथ रहेंगे। इस‍लिए इन बातों से एक दूसरे को शान्ति दिया करो।’’ (1थिस्‍सलुनीकियों 4:13-18)  ‘‘क्‍योंकि अब मैं अर्घ की भांति उण्‍डेला जाता हूं और मेरे जीवन का अन्तिम समय आ पहुंचा है। मैं अच्‍छी कुश्‍ती लड़ चुका हूं, मैंने अपनी दौड़ पूरी कर ली है, मैंने विश्‍वास की रक्षा की है। भविष्‍य में मेरे लिए धार्मिकता का मुकुट रखा हुआ है, जिसे प्रभु जो धार्मिकता से न्‍याय करने वाला है उस दिन मुझे प्रदान करेगा, और न केवल मुझे वरन् उन सब को भी जो उसके प्रकट होने को प्रिय जानते हैं।’’ (2तीमुथियुस 4:6-8)  

 

 

‘‘क्‍योंकि हम जानते हैं कि यदि हमारा पृथ्‍वी पर का तम्‍बू सदृश्‍य घर गिरा दिया जाए तो परमेश्‍वर से हमें स्‍वर्ग में ऐसा भवन मिलेगा जो हाथों से बना हुआ नहीं, परन्‍तु चिरस्‍थायी है। क्‍यों‍कि इस घर में तो हम कराहते और लालसा रखते हैं कि अपने स्‍वर्गीय भवन को पहिन लें और इसे पहिन कर हम नंगे न पाए जाएं। सचमुच, जब तक हम इस तम्‍बू में हैं तो बोझ से दबे हुए कराहते हैं, क्‍योंकि हम वस्‍त्र उतारना नहीं, वरन् पहिनना चाहते हैं कि जो कुछ मरणशील है, वह जीवन द्वारा निगल लिया जाए अब जिसने हमें इसी अभिप्राय के लिए तैयार किया है, वह परमेश्‍वर है। उसने हमें बयाने आत्‍मा दिया है। इसलिए हम सदा साहस रखते हैं और यह जानते हैं कि जब तक हम देह रूपी घर में रहते हैं, प्रभु से दूर हैं। क्‍योंकि हम रूप देख कर नहीं, पर विश्‍वास से चलते हैं-अतः हम पूर्णतः साहस रखते हैं तथा देह से अलग होकर प्रभु के साथ रहना और भी उत्‍तम समझते हैं। इसलिए हमारी अभिलाषा यह है, चाहे साथ रहें या अलग रहें हम उसे प्रिय लगते रहें। क्‍योंकि हम सब को मसीह के न्‍याय-आसन के समक्ष उपस्थित होना अवश्‍य है कि प्रत्‍येक को अपने भले या बुरे कामों का बदला मिले जो उसने देह के द्वारा किए।’’ (2कुरिन्थियों 5:1-10)  

‘‘पर अब मसीह तो मृतकों में से जिलाया गया है, और जो सोए हुए हैं उनमें वह पहला फल है। क्‍योंकि जब एक मनुष्‍य के द्वारा मृत्‍यु आई तो एक ही मनुष्‍य के द्वारा मृतकों का पुनरूत्‍थान भी आया। जिस प्रकार आदम में सब मरते हैं उसी प्रकार मसीह में सब जिलाए जाएंगे, पर हर एक अपने क्रम के अनुसारः प्रथम फल मसीह है, तब मसीह के आगमन पर उसके लोग। इसके पश्‍चात् अन्‍त होगा। उस समय वह समस्‍त शासन, अधिकार और सामर्थ्‍य का अन्‍त करके राज्‍य को परमेश्‍वर पिता के हाथ में सौंप देगा। जब तक वह अपने सब शत्रुओं को पैरों तले न कर ले, उसका रात्‍य करना अनिवार्य है। सब से अन्तिम शत्रु जिसका अन्‍त किया जाएगा वह मृत्‍यु है।’’ (1कुरिन्थियों 15:20-26)   ‘‘हे भाइयो, मैं यह कहता हूं कि मांस और लहू परमेश्‍वर के राज्‍य के उत्‍तराधिकारी नहीं हो सकते, और न विनाश, अविनाशी का अधिकारी हो सकता है। देखो, मैं तुम्‍हें एक रहस्‍य की बात बताता हूं: हम सब सोएंगे नहीं परन्‍तु सब के सब बदल जाएंगे। यह एक क्षण में, पलक मारते ही, अन्तिम तुरही के बजाए जाने के समय होगा। क्‍योंकि तुरही बजेगी, मृतक अविनाशी दशा में जिलाए जाएंगे और हम बदल जाएगें। क्‍योंकि इस नाश-वान का अविनाशी को और मरणशील का अमरता को पहिनना अवश्‍य है, परन्‍तु जब यह नाशमान, अविनाश को पहन लेगा और यह मरणशील अमरता को पहन लेगा तो यह लिखा हुआ वचन पूरा हो जाएंगा ‘‘मृत्‍यु को विजय ने निगल लिया है। हे मृत्‍यु, तेरी विजय कहां है? हे मृत्‍यु, तेरा डंक कहां?’’ मृत्‍यु का डंक तो पाप है, और पाप की शक्ति व्‍यवस्‍था है। परन्‍तु परमेश्‍वर का धन्‍यवाद हो जो हमें प्रभु यीशु मसीह के द्वारा विजयी करता है। इसलिए हे मेरे भाइयों, दृढ़ और अटल रहो तथा प्रभु के कार्य में सर्वदा बढ़ते जाओ, क्‍योंकि तुम जानते हो कि तुम्‍हारा परिश्रम प्रभु में व्‍यर्थ नहीं है।’’ (1कुरिन्थियों 15:50-58)  ‘‘हे सब थके और बोझ से दबे लोगों, मेरे पास आओ मैं तुम्‍हें विश्राम दूंगा।’’ (मत्‍ती 11:28)   

बच्‍चे की मृत्‍यु के समय उपयुक्‍त बाइबिल पाठ   ‘‘क्‍योंकि मृत्‍यु हमारी खिड़कियों से हमारे महलों के अन्‍दर घुस आई है कि गलियों से बच्‍चों को और चौकों से जवानों को मिटा दे।’’ (यिर्मयाह 9:21)  

 

‘‘हे यहोवा, मैं अपना मन तेरी ओर उठाता हूं। हे यहोवा, मेरी ओर फिर और मुझ पर अनुग्रह कर, क्‍योंकि मैं अकेला और पीड़ि‍त हूं। मेरे ह्रदय का क्‍लेश बढ़ गया है, मेरे दुःखों से तू मुझे छुड़ा ले। मेरे दुःख व संकट पर दृष्टि कर, और मेरे सब

पापों को क्षमा कर।’’ (भजन संहिता 25:1, 16-18) 

 

‘‘उस समय चेले यीशु के पास आकर पूछने लगे, स्‍वर्ग के राज्‍य में सब से बड़ा कौन? तब उसने एक बच्‍चे को अपने पास बुलाया और बीच में खड़ा करके कहा, मैं तुम से सच कहता हूं कि जब तक तुम न फिरो और बच्‍चों के समान न बनो, तुम स्‍वर्ग के राज्‍य में कभी प्रवेश करने नहीं पाओगे। जो कोई अपने आप को इस बच्‍चे के समान दीन बनाता है वही स्‍वर्ग के राज्‍य में सब से बड़ा है। और जो कोई मेरे नाम से ऐसे एक बच्‍चे को ग्रहण करता है, वह मुझे ग्रहण करता है। परन्‍तु जो कोई इन छोटों में से जो मुझ पर विश्‍वास रखते हैं, एक को भी ठोकर खिलाए तो उचित होता कि उसके गले मे चक्‍की का भारी पाट लटकाककर उसे समुद्र की गहराई में डुबा दिया जाता। देखो, तुम इन छोटों में से किसी एक को भी तुच्‍छ न जानना, क्‍योंकि मैं तुमसे कहता हूं कि स्‍वर्ग में उनके दूत मेरे स्‍वर्गीय पिता का मुंह सर्वदा देखते रहते हैं। तुम क्‍या सोचते हो? यदि किसी मनुष्‍य की सौ भेड़ें हों और उनमें से एक भटक जाए, तो क्‍या निन्‍यानवे को पहाड़ पर छोड़कर उस एक को ढूंढ़ने न जाएगा जो भटक रही है? और यदि ऐसा हो कि वह उसे पा ले तो मैं तुम से सच क‍हता हूं कि वह उसके लिए उन निन्‍यानवे की अपेक्षा जो नहीं खोई थीं अधिक आनन्‍द मनाता है। अतः तुम्‍हारे पिता की जो स्‍वर्ग में है

ऐसी इच्‍छा नहीं कि इन छोटों में से कोई एक भी नाश हो।’’ (मत्‍ती 18:1-6,10-14)   

‘‘इसी बालक के लिए मैंने विनती की थी, और यहोवा ने मुझे मुंह मांगा वर दिया है। अतः मैंने भी उसे यहोवा को समर्पित कर दिया है। वह जीवन भर के लिए यहोवा को समर्पित है।’’

(1शमूएल 1:27-28)  ‘‘तब यहोवा का हाथ उस बालक पर पड़ा जो ऊरिय्याह की विधवा से दाऊद के द्वारा उत्‍पन्‍न हुआ था। इस से वह अत्‍यधिक रोगी हो गया। अतः दाऊद ने परमेश्‍वर से इस बालक के लिए विनती की और उपवास किया, और वह जाकर रात भर भूमि पर पड़ा रहा। उसके घराने की प्राचीन उसे भूमि पर उसे उठाने के लिए उसके पास आए, पर वह न उठा, और न उनके साथ उसने भोजन किया। तब वह सातवें दिन ऐसा हुआ कि बालक मर गया। दाऊद के सेवक यह बताने से डरे कि बालक की मृत्‍यु हो गई। क्‍योंकि उन्‍होंने  सोचा, देखो, जब कि बालक जीवित ही था तब हमने उस से बातें कीं परन्‍तु उसने हमारी न सुनी। फिर हम उसे कैसे बताएं कि बालक मर गया है क्‍योंकि इस से वह अत्‍यन्‍त दुखी होगा। पर तब दाऊद ने अपने सेवकों को परस्‍पर फुसफुसाते देखा तब वह समझ गया कि बालक मर गया है। अतः दाऊद ने अपने सेवकों से कहा, क्‍या बालक मर गया? उन्‍होंने उत्‍तर दिया, वह मर गया है। अतः दाऊद भूमि पर से उठकर स्‍नान किया, तेल लगाया और कपड़े बदले। फिर उसने यहोवा के भवन में जाकर आराधना की। तब वह अपने घर गया। वहां उसके मांगने पर उन्‍होंने उसके लिए भोजन परोसा, और उसने खाया। तब उसके सेवकों ने उस से कहा, तू ने य‍ह क्‍या किया है? जब बालक जीवित था तब तो तू ने उपवास किया, और तू रोया पर जब वह मर गया, तू ने उठकर भोजन किया? उसने उत्‍तर दिया, जब बच्‍चा जीवित था, मैंने उपवास किया और मैं रोया, क्‍योंकि मैंने सोचा, क्‍या जाने, यहोवा मुझ पर अनुग्रह करें जिस से बालक जीवित रहे? पर अब तो वह नहीं रहा। मैं उपवास क्‍यों करूं? क्‍या मैं उसे लौटाकर ला सकता हूं? मैं उसके पास जाऊंगा, पर वह मेरे पास नहीं लौटेगा।’’

 (2शमूएल 12:15-23)    ‘‘तब मैंने सिंहासन से एक ऊंची आवाज़ को यह कहते सुना, देखो, परमेश्‍वर का डेरा मनुष्‍यों के बीच में है, उनके मध्‍य निवास करेगा। वे उसके लोग होंगे तथा परमेश्‍वर स्‍वयं उनके मध्‍य रहेगा। और वह उनकी आंखों से सब आंसू पोंछ डालेगा; फिर न कोई मृत्‍यु रहेगी न कोई शोक, न विलाप और न पीड़ा रहेगी। पहिली बातें बीत गई हैं। तब जो सिंहसन पर बैठा था, उसने कहा, देख मैं सब कुछ नया कर देता हूं! फिर उसने कहा, लिख, क्‍योंकि ये वचन विश्‍वसनीय और सत्‍य है।’’

(प्रकाशितवाक्‍य 21:3-5)  ‘‘मत डर, क्‍योकि मैं तेरे संग हूं। इधर-उधर मत ताक, क्‍योंकि मैं तेरा परमेश्‍वर हूं। मैं तुझे दृढ़ करूंगा और निश्‍चय ही तरी सहायता करूंगा, और अपने धर्ममय दाहिने हाथ से तुझे सम्‍भाले रहूंगा।’’

(यशायाह41:10)  तब कुछ बच्‍चे उसके पास लाए गए कि वह उन पर हाथ रखकर प्रार्थना करे, परन्‍तु चेलों ने उन्‍हें झिड़का तब यीशु ने कहा ‘‘बच्‍चों को मेरे पास आने दो। उन्‍हें मना न करो, क्‍योंकि स्‍वर्ग का राज्‍य ऐसों ही का है।’’ तब उन पर हाथ रखने के पश्‍चात् वह वहां से चला गया। (मत्‍ती 19:13-15)  ‘‘धन्‍य है परमेश्‍वर, हमारे प्रभु यीशु मसीह का पिता, जो दयालु पिता और समस्‍त शान्ति का परमेश्‍वर है। वह हमें हमारे सब क्‍लेशों में शान्ति देता है कि हम भी उनको जो क्‍लेश में हों वैसी ही शान्ति दे सकें जैसे परमेश्‍वर ने स्‍वयं हमको दी है’’

 (2कुरि‍न्थियों 1:3-4) 

दुर्घटना में मृत्‍यु के समय उपयुक्‍त बाइबिल पाठ  ‘‘यदि हम उसकी आशा करते हैं जिसे नहीं देखते तो धीरज से उत्‍सुकतापूर्वक उसकी प्रतीक्षा करते हैं। इसी रीति से आत्‍मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है; क्‍योंकि हम नहीं जानते कि हमें प्रार्थना किस प्रकार करना चाहिए, परन्‍तु आत्‍मा स्‍वयं भी ऐसे आहें भर भर कर जो अवर्णनीय हैं हमारे लिए विनती करता है, और ह्रदयों को जांचने वाला जानता है कि आत्‍मा की मनसा क्‍या है, क्‍योंकि वह पवित्र लोगों के लिए परमेश्‍वर के इच्‍छानुसार विनती करता है। और हम जानते हैं कि जो लोग परमेश्‍वर से प्रेम रखते हैं उनके लिए वह सब बातों के द्वारा भलाई को उत्‍पन्‍न करता है, अर्थात उन्‍हीं के लिए जो उसके अभिप्राय के अनुसार बुलाए गए हैं क्‍योंकि जिन के विषय में उसे पूर्वज्ञान था, उसने उन्‍हें पहिले से ठहराया भी कि वे उसके पुत्र स्‍वरूप में हो जाएं, जिससे कि वह बहुत-से भाइयों में पहिलौठा ठहरे; फिर जिन्‍हें उसने पहिले से ठहराया है, उन्‍हें बुलाया भी; और जिन्हें बुलाया, उन्‍हें धर्मी भी ठहराया; और जिन्‍हें धर्मी ठहराया, उन्‍हें महिमा भी दी है। अब हम इन बातों के बिषय में क्‍या कहें? यदि परमेश्‍वर हमारे पक्ष में है, तो कौन हमारे विरूद्ध है? वह जिसने अपने पुत्र को भी नहीं छोड़ा परन्‍तु उसे हम सब के लिए दे दिया, तो वह उसके साथ हमें सब कुछ उदारता से क्‍यों न देगा?’’

 (रोमियों 8:25-32)  ‘‘कौन हम को मसीह के प्रेम से अलग करेगा? क्‍या क्‍लेश, या संकट, या सताव, या अकाल, या नंगाई, या. जोखिम, या तलवार? जैसा लिखा है, तेरे लिए हम दिन भर घात किए जाते हैं; हम वध वाली भेड़ों के सदृश्‍य समझे जाते हैं। परन्‍तु उन बातों में हम उसके द्वारा जिसने हम से प्रेम किया जयवन्‍त से भी बढ़कर हैं। क्‍योंकि मुझे पूर्ण निश्‍चय है कि न मृत्‍यु न जीवन, न स्‍वर्गदूत न प्रधानताएं, न वर्तमान न भविष्‍य न शक्तियां, न ऊंचाई न गहराई, और न कोई सृजी हुई वस्‍तु हमें परमेश्‍वर के प्रेम से जो हमारे प्रभु यीशु मसीह में हैं, अलग कर सकेगी।’’

 (रोमियों 8:35-39)  ‘‘यीशु ने उस से कहा, पुनरूत्‍थान और जीवन मैं ही हूं। जो मुझ पर विश्‍वास करता है यदि मर भी भी जाए फिर भी जिएगा, और प्रत्‍येक जो जीवित है, और मुझ पर विश्‍वास करता है, कभी नहीं मरेगा।’’

 (यूहन्‍ना 11:25-26)  ‘‘तुम्‍हारा ह्रदय व्‍याकुल न हो। परमेश्‍वर पर विश्‍वास रखो और मुझ पर भी विश्‍वास रखो। मेरे पिता के घर में रहने के बहुत से स्‍थान हैं। यदि न होते, तो मैं तुमसे कह देता, क्‍योंकि मैं तुम्‍हारे लिए जगह तैयार करने जाता हूं। और यदि मैं जाकर तुम्‍हारे लिए जगह तैयार करूं तो फिर आकर तुम्‍हें अपने यहां ले जाऊंगा कि जहां मैं हूं, वहां तुम भी रहो। और जहां मैं जा रहां हूं तुम वहां का मार्ग जानते हो। थोमा ने उसे से कहा, हे प्रभु, हम नहीं जानते कि तू कहां जा रहा है, तो मार्ग कैसे जानें? यीशु ने उस से कहा, मार्ग, सत्‍य और जीवन मैं ही हूं। बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुंच सकता।’’ (यूहन्‍ना 14:1-6)  ‘‘धन्‍य है परमेश्‍वर, हमारे प्रभु यीशु मसीह का पिता, जो दयालु पिता और समस्‍त शान्ति का परमेश्‍वर है। वह हमें हमारे सब क्‍लेशों में शान्ति देता है कि हम भी उनको जो क्‍लेश में हों वैसे ही शान्ति दे सकें जैसे परमेश्‍वर ने स्‍वयं हमको दी है।’’ (2कुरिन्थियों 1:3-4)  

आत्‍महत्‍या के समय उपयुक्‍त बाइबिल पाठ‘‘धन्‍य है परमेश्‍वर, हमारे प्रभु यीशु मसीह का पिता, जो दयालु पिता और समस्‍त शान्ति का परमेश्‍वर है। वह हमें हमारे सब क्‍लेशों में शान्ति देता है कि हम भी उनको जो क्‍लेश में हों वैसे ही शान्ति दे सकें जैसे परमेश्‍वर ने स्‍वयं हमको दी है।’’ (2 कुरिन्थियों 1:3-4)  ‘‘हे मेरे मन, यहोवा को धन्‍य कह और और जो कुछ मुझ में है, उसके पवित्र नाम को धन्‍य कहे! यहोवा दयालु और अनुग्रकारी, विलम्‍ब ये कोप करने वाला और अति करूणामय है। व‍ह सर्वदा झिड़कता न रहेगा, और न क्रोध करता रहेगा। उसने हमारे पापों के अनुसार हमसे व्‍यवहार नहीं किया, न हमारे अधर्म के अनुसार हमें बदला दिया। जैसे आकाश पृथ्‍वी के ऊपर ऊंचा हैं, वैसे ही उसकी करूणा उन पर महान् है जो उस से डरते हैं। उदयाचल से अस्‍ताचल जितनी दूर है, उसने हमारे अपराधों को हमसे उतनी ही दूर कर दिया है। जैसे पिता अपने बच्‍चों पर दया करता है, वैसे ही यहोवा उन पर दया करता है जो उस से डरते हैं। क्‍योंकि वह हमारी सृष्टि को जानता है; उसे स्‍मरण रहता है कि हम धूल ही हैं। मनुष्‍य की आयु घास के समान है; वह मैदान के फल समान फूलता है, जो हवा का झोंका लगते ही ठहर नहीं पाता, और फिर उसका स्‍थान भी उसे नहीं पहचानता। परन्‍तु यहोवा की करूणा अपने भक्‍तों पर सदा-सर्वदा और उसकी धार्मिकता उनके नाती पोतों पर बनी रहती है।’’ (भजन संहिता 103:1,8-17)  

‘‘हे यहोवा, मैं तेरी शरण में आया हूं मुझे कभी लज्जित न होने दे। अपनी धार्मिकता के कारण मुझे छुड़ा और उद्धार कर, मेरी ओर कान लगा और मुझे बचा। तू मेरे लिए आश्रय की चट्टान बन जिसमें मैं नित्‍य शरण ले सकूं; तू ने मेरे उद्धार

की आज्ञा दी है, क्‍योंकि तू मेरी चट्टान और गढ़ है।’’

 

(भजन संहिता 71:1-3)

(क़ब्र के पास पहुंचकर मृत शरीर को आदरपूर्वक क़ब्र में रखा जाए)  गीत-  प्रभु यीशु मसीह में हम सब विश्‍वासी विश्‍वास से मृत्‍यु के पार एक ऐसे देश की बाट जोहते हैं जिसका तेज और सौन्‍दर्य अपार है, जहां अपनों से पुर्नमिलन है, जहां अन्‍नत विश्राम और शान्ति है, जिसे परमेश्‍वर ने स्‍वयं अपने हाथों से हमारे लिए तैयार किया है। यही अद्वितीय विश्‍वास हमें मृत्‍यु की छाया में दृढ़ता और सम्‍बल प्रदान करता है।इसी विश्‍वास के साथ सब मिलकर गीत गाएंगे, गीत क्रमांक ------।  

 

हम विश्‍वास से एक देश देखते हैं।गीत - हम विश्‍वास से एक देश देखते हैं 1. हम विश्‍वास से एक देश देखते हैंजिसका तेज और सौन्‍दर्य अपार प्रभु मेरे लिये कर रहारहने के लिए जगह तैयार।

 

कोः- थोड़ी देर में वहां प्‍यारो जा के मिलेंगे सभी 2

 

2. सारे श्रम के मिलेगा विश्राम हम न फिर वहां देखेंगे क्‍लेश रात और दिन मेम्‍ने के स्‍तुति गान गाएंगे जाके हम ऐसे देश।

 

3. प्रेम, अनुग्रह और आशीष सम्‍पूर्ण आनन्‍द पूर्वक सदा खोल के मन है यह ईश्‍वर का प्‍यारा वरदान करते रहेंगे स्‍तुति भजन। 

 

या

BECAUSE HE LIVES I CAN FACE TOMORROWBecause He lives I can face tomorrow Because He lives all fear has gone Because I know, He holds the future And life is worth of living,Just because He lives.

 

या

SOME GLAD MORNING 1. Some glad morning when this life is over, I’ll fly away,to a home on God’s celestial shore,I’ll fly away.  

Cho.- I’ll fly away, O glory I’ll fly away,in the morning,when I die, halleluyah, bay and by,I’ll fly away.  

 

2. When the shadows of this life have gone,I’ll fly away.Like a bird from prison bard has flown I’ll fly away. 

 

3. Just a few more weary days and then,I’ll fly away,to a land where joy shall never end,I’ll fly away.  \

संक्षिप्‍त संदेश- इस विधि से संबंधित विभिन्‍न संदेशों के लिए   मृत्‍यु से संबंधित संदेश

 

संदर्भः 2कुरिन्थियों 4:16-18,5:1

 

भूमिकाः- मृत्‍यु जब भी आती है तो दुःख लाती है। चाहे कोई संत हो, चाहे कितना मज़बूत विश्‍वासी हो, मृत्‍यु से संबंधित प्रत्‍येक लोग दुखित होते हैं क्‍योंकि मृत्‍यु संसार में रहते हुए अपने प्रिय जनों से अलगाव लाती है।  

 

मृत्‍यु शारीरिक सांसारिक जीवन का अंत होती है। जो योजनाओं और स्‍वप्‍नों को अक्‍सर अधूरा छोड़ जाने पर विवश कर देती है।  

 

मृत्‍यु अकेलापन लाती है क्‍योंकि ये परिवार के आधार को, सहारे, प्रेम के केन्‍द्र को, हम से अलग कर देती है। मानव होने के नाते ये सब बातें बहुत स्‍वाभाविक हैं, परन्‍तु तीन बातें हैं जो मसीही के लिए इस प‍हले पक्ष से कहीं ज्‍य़ादा प्रमुख हैं।

 

1. मृत्‍यु का अहसास हमारे जीवनों में परिवर्तन ला सकता हैः- मृत्‍यु के अहसास से हम अपनी प्राथमिकताओं को सुधार सकते हैं। जीवन में क्‍या प्रमुख है और क्‍या नहीं इस बात को समझ सकते हैं। हम अपने संबंधों को सुधार सकते हैं। अक्‍सर परिवारों  और संबंधों में भिन्‍न विचारधाराओं के कारण असहमतियां बन जाती हैं जिन्‍हें हम प्रतिष्‍ठा का प्रश्‍न बना लेते हैं और हमारे संबंध टूट जाते हैं परन्‍तु मृत्‍यु का अहसास हमें अपने संबंधो को सुधारने का अवसर देता है। मृत्‍यु के अहसास से परमेश्‍वर पर हमारी निर्भरता बढ़ जाती है। परमेश्‍वर की उपस्थिति हमारे प्रिय जन की अनुपस्थिति को पूरा करती है।  

2. मृत्‍यु का यह दुःख भरा अहसास हमारे जीवनों को नई दिशा दे सकता हैः- यह संसार ही व्‍यक्ति की अंतिम मंज़ि‍ल नहीं। बाइबिल में दो हज़ार से अधिक आयतें हैं, परमेश्‍वर की प्रतिज्ञाएं हैं जो अनंत जीवन से संबंधित हैं।  

 

2कुरिन्थियों 5:1 में लिखा है ‘‘क्‍योंकि हम जानते हैं, कि जब हमारा पृथ्‍वी पर डेरा सरीखा घर गिराया जाएगा तो हमें परमेश्‍वर की ओर से स्‍वर्ग पर एक ऐसा भवन मिलेगा, जो हाथों से बना हुआ घर पर नहीं, परन्‍तु चिरस्‍थाई है।’’  

 

इसी प्रकार इब्रानियों 11:16 में लिखा है ‘‘पर वे एक उत्तम अर्थात् स्‍वर्गीय देश के अभिलाषी हैं, इसलिए परमेश्‍वर उन का परमेश्‍वर कहलाने में उन से नहीं लजाता, सो उस ने उन के लिये ए‍क नगर तैयार किया है।’’   इसी कारण पौलुस हमारे लिए ही लिखता है और जो बात हमारे जीवन में बनी रहनी चाहिए वह यह कि ‘‘और हम तो देखी हुई वस्‍तुओं को नहीं परन्‍तु अनदेखी वस्‍तुओं को देखते रहते हैं, क्‍योंकि देखी हुई वस्‍तुएं थोड़े ही दिन की हैं, परन्‍तु अनदेखी वस्‍तुएं सदा बनी रहती हैं।’’ (2कुरिन्थियों 4:18)  

 

3. मृत्‍यु का अहसास हमें परमेश्‍वर की निकटता में ले जा सकता हैः- जीवन में हम जीने के साधन जुटाने के लिए

कितना प्रयास करते हैं। परन्‍तु मृत्‍यु के समय जो बात सामने आती है, जो की सबसे प्रमुख है, जो सबसे प्राथमिक है और जिसका प्रभाव अनंतकालिक है वह यह कि परमेश्‍वर से हमारा संबंध कैसा है। जो कुछ इस संसार में है वह तो एक दिन समाप्‍त हो जाएगा, पुराना हो जाएगा,। कल या तो यह साज़ो सामान न होगा परन्‍तु या फिर हम स्‍वयं नहीं होंगे केवल एक बात अनंत कालिक होगी कि परमेश्‍वर से हमारा संबंध कैसा है। परमेश्‍वर से हमारा संबंध इस जीवन में हमें नया जीवन देता है और इस संसार के पार अनंत जीवन की निश्‍चयता। यीशु ने कहा ‘‘जो मुझ पर विश्‍वास करता है वह यदि मर भी जाए तौभी जिएगा।’’ (यूहन्‍ना 11:26)  पौलुस लिखता है ‘‘हे मृत्‍यु तेरी जय कहां रही? हे मृत्‍यु तेरा डंक कहां रहा? मृत्‍यु का डंक पाप है; और पाप का बल व्‍यवस्‍था है। परन्‍तु परमेश्‍वर का धन्‍यवाद हो, जो हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा हमें जयवन्‍त करता है। सो हे मेरे प्रिय भाइयों, दृढ़ और अटल रहो, और प्रभु के काम में सर्वदा बढ़ते जाओं, क्‍योंकि यह जानते हो, कि तुम्‍हारा परिश्रम प्रभु में व्‍यर्थ नहीं है।’’(1 कुरिन्थियों 15:55-57) 

 

रोमियों 8:55-39 में लिखा है ‘‘कौन हमको मसीह के प्रेम से अलग करेगा? क्‍या क्‍लेश, या संकट, या उपद्रव, या अकाल, या नंगाई, या जोखिम, या तलवार? जैसा लिखा है कि तेरे लिये हम दिन भर घात किए जाते है, हम वध होने वाली भेड़ों की नाई गिने गए है। परन्‍तु इन सब बातों से हम उसके द्वारा जिस ने हम से प्रेम किया है, जयवन्‍त से भी बढ़कर हैं। क्‍योंकि मैं निश्‍चय जानता हूं, कि न मृत्‍यु, न जीवन, न स्‍वर्गदूत, न प्रधानताएं, न वर्तमान, न भविष्‍य, न सामर्थ्‍य, न ऊचाई, न गहिराई और न कोई  और सृष्टि, हमें परमेश्‍वर के प्रेम से, जो हमारे प्रभु मसीह यीशु में है, अलग कर सेकेगी।’’ 

 

यूहन्‍ना 14:6 में प्रभु यीशु ने कहा ‘‘मार्ग और सच्‍चाई और जीवन मैं ही हूं।’’ जीवन की हर कठिनाई में वह हमारे लिए रास्‍ता है। जीवन के छल कपट बुराईयों के वीच में वह हमारा सत्‍य है। मृत्‍यु के द्वारा इस सांसारिक समापन के साथ ही वह हमारा अनंत जीवन है। 

 

 

निष्‍कर्षः- मृत्‍यु की इस छाया में अपने प्रिय जन से विछोह का अनुभव करते हुए, अकेलेपन का महसूस करते हुए हम इस बात पर विचार करें कि हमें अपने जीवनों और अपनी प्राथमिकताओं में परिवर्तन लाना है। अपने जीवनों को नई दिशा देना है और अनंत जीवन की प्रतिज्ञाओं पर विश्‍वास करना है। परमेश्‍वर से अपने संबंधों का मूल्‍यांकन करना है ताकि उसकी निकटता में बनें रहकर जब हमारा इस संसार से कूच करने का समय आए तो हम भी अनंत जीवन की निश्‍चयता के साथ इस बात को कह सकें, ‘‘हे मृत्‍यु तेरी जय कहां रही?’’   

त्रासदी पूर्ण मृत्‍यु से संबंधित संदेश - 1 असामयिक मृत्‍यु

 

संदर्भ :  उत्‍पत्ति‍ 3:17-19

 

भूमिकाः- परिवार में हुई इस असामयिक मृत्‍यु ने जबकि हमारा प्रियजन हमसे छीन लिया है तो परमेश्‍वर के वचन के

प्रकाश में हमें समझना है कि;  1. हम एक शापित संसार में रहते हैं:- सर्प के बहकावे में आकर जब आदम और हव्‍वा ने परमेश्‍वर की आज्ञा का उल्‍लंघन किया तो परमेश्‍वर ने आदम हव्‍वा को शाप दिया। ‘‘और आदम से उस ने कहा, तू ने जो अपनी पत्नि की बात सुनी, और जिस वृक्ष के फल के विषय मैं मैंने तुझे आज्ञा दी थी कि तू उसे न खाना उसको तू ने खाया है, इसलिये भूमि तेरे कारण शापित है; तू उसकी उपज जीवन भर दुःख के साथ खाया करेगाः और वह तेरे लिये कांटे और ऊंटकटारे उगाएगी, और तू खेत की उपज खाएगा; और अपने माथे के पसीने की रोटी खाया करेगा, और अन्‍त में मिट्टी में मिल जाएगा; क्‍योंकि तू उसी में से निकाला गया है, तू मिट्टी तो है और  मिट्टी ही में फिर मिल जाएगा।’’ (उत्‍पत्ति‍ 3:17-19)इसलिए संसार, संसार का वातावरण हमारी देह शापित है और इस शाप का परिणाम मृत्‍यु के रूप में परमेश्‍वर के द्वारा निर्धारित है।  

2. संसार में घटित हर बात के लिए हम परमेश्‍वर को दोषी नहीं ठहरा सकतेः- अक्‍सर इस प्रकार की दुर्घटनाओं के समय हम परमेश्‍वर से प्रश्‍न करने लगते हैं कि ऐसा हमारे साथ क्‍यों हुआ? परन्‍तु हमें इस बात को समझना है कि हमारे या दूसरों के ग़लत परिणामों के लिए हम परमेश्‍वर को दोष नहीं दे सकते। नशे की हालत में गाड़ी चलाने के ग़लत निर्णय का परिणाम दुर्घटना हो सकता है और इसके लिए परमेश्‍वर उत्तरदायी नहीं है। गर्भवती मां के द्वारा ग़लत दवाएं खाने का परिणाम जन्‍मे बच्‍चे की अपंगता हो सकता है और इसके लिए हम परमेश्‍वर को दोषी नहीं ठहरा सकते। हमें यह समझना है कि हमारे या दूसरों के द्वारा लिए ग़लत निर्णयों के दुष्‍परिणाम परमेश्‍वर की योजना अनुसार नहीं।  

3. उम्र का मृत्‍यु से कोई संबंध नहीं हैः- उम्र की दीर्घता या अल्‍पता का मृत्‍यु से कोई संबंध नहीं है। यह निश्चित नहीं है कि कोई व्‍यक्ति एक निर्धारित आयु में ही मृत्‍यु को प्राप्‍त होगा। इसी कारण याकूब 4:14 में वचन क‍हता है ‘‘सुन तो लो तुम्‍हारा जीवन है ही क्‍या? तुम ता मानो भाप समान हो, जो थोड़ी देर दिखाई देती है फिर लोप हो जाती है।’’  इस कारण हमें यह समझना है कि उम्र का मृत्‍यु से कोई संबंध नहीं। 

 

4. हमें भरोसा रखना है और आज्ञाकारी बने  रहना हैः- अक्‍सर इस प्रकार की असामयिक मृत्‍यु के समय हमारे मन में यह प्रश्‍न होता है कि ऐसा हमारे साथ क्‍यों हुआ? क्‍या परमेश्‍वर ने हमको दण्‍ड दिया? क्‍या परमेश्‍वर हमसे प्रेम नहीं करता? और ऐसे समय में अक्‍सर हमारा विश्‍वास खो बैठते हैं। इसी प्रकार का प्रश्‍न मार्था ने यीशु से किया था ‘‘हे प्रभु, यदि तू यहां होता तो मेरा भाई कदापि नहीं मरता।’’(यूहन्‍ना 11:21)   हबक्‍कूक ने भी इसी प्रकार से परमेश्‍वर से प्रश्‍न किया था ‘‘हे यहोवा कब तक मैं तेरी दुहाई देता रहूंगा और तू मेरी न सुनेगा?’’(हबक्‍कूक 1:2)   परन्‍तु यीशु ने कहा, ‘‘यदि तू विश्‍वास करेगी तो परमेश्‍वर की महिमा को देखेगी।’’ (यूहन्‍ना 11:40) 

 

हबक्‍कूक ने जब परमेश्‍वर पर अपना विश्‍वास बनाए रखा और उसकी आज्ञा का पालन किया तब वह परमेश्‍वर  के प्रति धन्‍यवाद से भरकर कहता है ‘‘क्‍योंकि‍ चाहे अंजीर के वृक्षों में फूल न लगें, और न दाखलताओं में फल लगें, जलपाई के वृक्ष से केवल धोखा पाया जाए और खेतों में अन्‍न न उपजे, भेड़शालाओं में भेड़-बकरियां न रहें, और न थानों में गाय बैल हों, तौभी मैं यहोवा के कारण आनन्दित और मगन रहूंगा, और अपने उद्धारकर्त्ता परमेश्‍वर के द्वारा अति प्रसन्‍न रहूंगा।’’ (हबक्‍कूक 3:17-18)  हमें यह समझना है कि हमारे जीवन की त्रासदी को परमेश्‍वर अपनी योजना को पूर्ण करने का माध्‍यम बनाता  है। चेलों ने जब एक जन्म के अन्‍धे को देखकर यीशु से पूछा ‘‘हे रब्‍बी, किसने पाप किया था कि यह अन्‍धा जन्‍मा, इस मनुष्‍य ने, या उसके माता पिता ने? यीशु ने उत्तर दिया, कि न तो इसने पाप किया था; न इसके माता पिता नेः परन्‍तु यह इसलिए हुआ, कि परमेश्‍वर के काम उसमें प्रकट हों।’’ (यूहन्‍ना 9:2,3)   लाजर की बीमारी और मृत्‍यु भी परमेश्‍वर की योजना का माध्‍यम थी ताकि उसके द्वारा परमेश्‍वर को महिमा मिले। दमोह में प्‍लेग की भयानक बीमारी परमेश्‍वर योजना का माध्‍यम बनी कि जो बच्‍चे उस बीमारी में अनाथ होकर बच जाएं, उनके द्वारा से मसीही कलीसिया की नींव पड़े।

निष्‍कर्षः- हम इन कठिन पलों में इस बात को समझे कि;- हम एक शापित संसार में रहते हैं।- संसार में घटित हर बात के लिए हम परमेश्‍वर को दोषी नहीं ठहरा सकते। - उम्र का मृत्‍यु से कोई संबंध नहीं। - हमें भरोसा रखना और आज्ञाकारी होना है।

 

इस कारण से हमें सदैव तैयार रहना है, इस संसार में रहते हुए अपनी आत्‍मा की तैयारी करना है कि चाहे कभी भी मृत्‍यु आए तो हम तैयार हों कि अपनी आत्‍मा परमेश्‍वर के सुरक्षित हाथों में सौंप सकें।   

त्रासदी पूर्ण मृत्‍यु से संबंधित संदेश 2

 

आत्‍महत्‍या

 

भूमिकाः- इस कठिन समय में जबकि हमारे ह्रदयों में असंख्‍य प्रश्‍न और शंकाए हैं। हम अपनी सीमित बुद्धि‍ और ज्ञान से इस दुःखद घटना के परिप्रक्ष्‍य को देखते हैं। हम नहीं समझ सकते कि आखिर ऐसी परिस्थिति उत्‍पन्‍न क्‍यों हुई परन्‍तु परमेश्‍वर का वचन प्रत्‍येक परिस्थिति में हमें समझना है और सिखाता है। इस घटना से संबंधित परमेश्‍वर के वचन से कुछ बातों को हम देखें और इस संबंध में हम दो पहलुओं पर विचार करेंगे। 

 

 

1. आत्‍महत्‍या एक गंभीर एवं जटिल बात हैः-

 

(अ) आत्‍महत्‍या की बात एक नकारात्‍मक बात हैः- आत्‍महत्‍या के विषय में सोचना एक नकारात्‍मक दृष्टिकोण है क्‍योंकि यह जीवन परमेश्‍वर ने दिया है और इसे लेने का अधिकार भी परमेश्‍वर को ही है। लूका 12:5 में प्रभु यीशु कहते है ‘‘मैं तुम्‍हें चिताता हूं कि तुम्‍हें किससे डरना चाहिए, घात करने के बाद जिसको नरक में डालने का अधिकार है, उसी से डरोः वरन् मैं तुमसे कहता हूं, उसी से डरो।’’  (

ब) आत्‍महत्‍या समस्‍याओं निदान नहीं हैं:- आत्‍महत्‍या करने वाला यह सोचता है कि उसके इस निर्णय से सारी समस्‍याओं का निदान हो जाएगा परन्‍तु आत्‍महत्‍या से ज़ि‍म्‍मेदारियों का अन्‍त नहीं होता, समस्‍याओं का अन्‍त नहीं होता बल्कि यह सब मरने वाले के बाद उसके शेष लोगों पर और भी बढ़ जाती हैं। 

 

(स) अन्तिम न्‍यायी परमेश्‍वर हैः- हमें यह समझना है कि अन्तिम न्‍यायी परमेश्‍वर है, वह सब बातें जानता है। वह हर परिस्थिति और मनःस्‍थिति से वाकिफ है इसलिए किसी भी व्‍यक्ति के विषय अन्तिम न्‍याय परमेश्‍वर के निर्णय की बात है। सभोपदेशक 12:14 में लिखा है ‘‘क्‍योंकि परमेश्‍वर सब कामों और सब गुप्‍त बातों का, चाहे वह भली हों या बुरी, न्‍याय करेगा।’’  

2. उपरोक्‍त बातों के आधार पर हमें देखना है कि ऐसी परिस्थिति में परमेश्‍वर हमें क्‍या सिखाना चाहता है?

 

(अ) हमें अपने जीवन की बहुमूल्‍यता को समझना हैः- हमें इस बात को समझना है कि हम वो नहीं हैं जो संसार हमारे विषय में कहता है, हमारे पड़ोसी या मित्र या शत्रु कहते हैं। अक्‍सर जीवन में नकारात्‍मक परिस्थितियों के उत्‍पन्‍न होने पर हम यह सोचते हैं कि लोग क्‍या कहेंगे? परन्‍तु संसार क्‍या कहेगा हमें इसकी चिन्‍ता नहीं करनी चाहिए। यूहन्‍ना 15:19 में लिखा है ‘‘यदि तुम संसार के होते, तो संसार अपनों से प्रीति रखता, परन्‍तु इस कारण कि तुम संसार के नहीं, वरन् मैंने तुम्‍हें संसार में से चुन लिया है इसलिए संसार तुमसे बैर रखता है।’’  

 

लोग क्‍या कहेंगे इससे बढ़कर यह बात है कि हम देखें कि परमेश्‍वर क्‍या कह रहा है।   हमें यह समझना है कि परमेश्‍वर ने हमारे लिए सबसे बड़ी क़ीमत चुकाई है। उसने अपने एकलौते बेटे के लहू के द्वारा हमें खरीदा है। जैसा कि यूहन्‍ना 3:16-17 में लिखा है ‘‘क्‍योंकि परमेश्‍वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्‍वास करे, वह नाश न हो, परन्‍तु अनन्‍त जीवन पाए। परमेश्‍वर ने अपने पुत्र को जगत में इसलिए नहीं भेजा, कि जगत पर दण्‍ड की आज्ञा दे परन्‍तु इसलिए कि जगत उसके द्वारा उद्धार पाए।’’ 

 

 

(ब) हमें परमेश्‍वर की क्षमा और उसके अनुग्रह को स्‍वीकार करना हैः- परमेश्‍वर हमारे हर एक पाप को क्षमा करता है। चाहे वेश्‍या हो या डाकू या अपराधी, प्रभु यीशु मसीह ने सबको क्षमा किया। उसकी क्षमा सबके लिए उपलब्‍ध है। और हमें उसके इस क्षमा के उपहार और अनुग्र‍ह को स्‍वीकार करना सीखना है। मीका 7:18-19 में लिखा है ‘‘तेरे समान ऐसा परमेश्‍वर कहां है जो अधर्म को क्षमा करे और अपने निज भाग के बचे हुओं के अपराध को ढांप दे? वह अपने क्रोध को सदा बनाए नहीं रहता, क्‍योंकि वह करूणा से प्रीति रखता है। वह हम पर फिर दया करेगा, और हमारे अधर्म के कामों को लताड़ डालेगा। तू उनके सब पापों को गहिरे समुद्र में डाल देगा।’’  यशायाह 1:18 में लिखा है ‘‘तुम्‍हारे पाप चाहे लाल रंग के हों, तौभी वे हिम की नाई उजले हो जाएंगे; और चाहे अर्गवानी रंग के हों, तौभी वे उन के समान श्‍वेत हो जाएंगे।’’   कलीसिया की ज़ि‍म्‍मेदारी है कि ग़लत दिशा में पाप में पड़े लोगों के प्रति हमारा व्‍यवहार हल्‍का और मज़ाक से भरा न हो परन्‍तु गम्‍भीरता के साथ हम उनसे व्‍यवहार करें, उन्‍हें सही मार्ग दर्शन दें। लिखा है ‘‘जो विश्‍वास में निर्बल है, उसे अपनी संगति में ले लो।’’ (रोमियों 14:1)  

 

वचन कहता है कि हमें एक दूसरे का बोझ उठाना है क्‍योंकि लिखा है ‘‘तुम एक दूसरे के भार उठाओं, और इस प्रकार मसीह की व्‍यवस्‍था को पूरी करो।’’ (गलतियों 6:2) 

 

(स) हमें अपनी समस्‍याओं को दूसरों के साथ बांटना हैः- अक्‍सर जीवन की नकारात्‍मक परिस्थितियों में अपनी

समस्‍याओं को हम खुद तक सीमित रखना चाहते हैं और उनसे उतपन्‍न तनाव हमारे जीवन में घुटन और निराशा पैदा करता है। हम अन्‍दर ही अन्‍दर घुटते रहते हैं और यही घुटन आत्‍महत्‍या जैसे नकारात्‍मक विचार को उत्‍पन्‍न करती है। हमें यह समझना है कि हमें अपनी समस्‍याओं के अपने लोगों के साथ बांटना है। कलीसिया एक परिवार के समान है, और इस परिवार में एसे लोग जो प्रभु में हमसे अधिक परिपक्‍क हैं उनके साथ अपनी समस्‍याओं को हमें शेयर करना है। याकूब 5:16 में लिखा है ‘‘ इसलिए तुम आपस में एक दूसरे के सामने अपने अपने पापों को मान लो; और एक दूसरे के लिए प्रार्थना करो।’’  

 

(द) हर स्थिति में परमेश्‍वर हमें स्‍वीकार करने को तैयार हैः- परमेश्‍वर ने केवल हमें अपनी क्षमा ही नहीं प्रदान की है बल्कि वह हर स्थिति में हमें स्‍वीकार करने को तैयार है। प्रभु ने कहा ‘‘हे सब परिश्रम करने वालों और बोझ से दबे लोगों, मेरे पास आओ; मैं तुम्‍हें विश्राम दूंगा।’’ (मत्ती 11:28) 

 

निष्‍कर्षः- परमेश्‍वर ने हमसे बहुत प्रेम किया है उसने अपने बेटे के रक्‍त के द्वारा हमें खरीदा है। उसकी क्षमा और अनुग्रह हमारे लिए उपलब्‍ध है तथा वह हमें हर स्थिति में स्‍वीकार करने को तैयार है। यहूदा इस्‍करियोती ने प्रभु यीशु मसीह को पकड़वाया और उसे अपने किए पर पछतावा हुआ। परन्‍तु उसने इस बात को नहीं  समझा कि प्रभु उसे भी क्षमा करने और स्‍वीकार करने के लिए तैयार है और उसने आत्‍महत्‍या का त्रासदी पूर्ण रास्‍ता चुन लिया। दूसरी ओर पतरस ने प्रभु यीशु का तीन बार इंकार किया, परन्‍तु फिर उसे अपने किए पर पश्‍चात्ताप हुआ, उसने प्रभु यीशु के आह्रवान को स्‍वीकार किया। अपने पापों की क्षमा मांगी और परमेश्‍वर ने उसे एक नया मार्ग दिया। जिस पर चलकर उसने परमेश्‍वर के राज्‍य के विस्‍तार के लिए अनेक काम किये। आज हमें भी समझना है कि कौन सा मार्ग चुनना परमेश्‍वर को ग्र‍हणयोग्‍य है। दो रास्‍ते हैं; यहूदा का रास्‍ता जो नकारात्‍मक है, जो परमेश्‍वर के प्रेम और क्षमा को स्‍वीकार नहीं करता, जो उससे दूर चले जाने को तैयार है। दूसरा रास्‍ता है पतरस का, जिस पर परमेश्‍वर के प्रेम का अहसास है और जिस पर परमेश्‍वर की उपस्थिति की आशीष है। 

 

 

त्रासदी पूर्ण मृत्‍यु से संबंधित संदेश - 3

 

बच्‍चे की मृत्‍यु संदर्भः 2 शमूएल 12:15-23 

 

 

भूमिकाः-  इस संसार से गुज़रते हुये, मनुष्‍य को कठिनाईयों, संघर्षो एवं मृत्‍यु की छाया से गुजरना पड़ता है। व्‍यक्ति के

हरेक प्रश्‍न का उत्तर उसे नहीं मिलता। जीवन में जो घटनाएं और दुर्घटनाएं होती हैं उनका भी बहुत स्‍पष्‍ट उत्तर हमको सांसारिक या आत्मिक रूप नहीं मिलता, इसी तरह की घटना बच्‍चे की मृत्‍यु के संदर्भ की होती है। मनुष्‍य समय की मीमा में बंधा केवल वर्तमान को देख सकता है। ऐसा संपूर्ण जीवन जिसमें भविष्‍य भी शामिल हो की बातों को हम ठीक तरह नहीं समझ सकते? ऐसे ही समयों और स्‍थान पर मनुष्‍य के विश्‍वास की भी परख होती है। 

 

इब्रानियों 11 के पहले पद में लिखा है कि ‘‘विश्‍वास आशा की हुई वस्‍तुओं का निश्‍चय, और अनदेखी वस्‍तुओं का प्रमाण है।’’ साथ ही मसीहियों को इस बात पर भी अडिग विश्‍वास होना चाहिए कि जो परमेश्‍वर से प्रेम रखता है और उसके पीछे चलता है उनके लिए सब बातें अंत में मिलकर भलाई को ही उत्‍पन्‍न करती हैं। बच्‍चे की मृत्‍यु के संदर्भ में परमेश्‍वर के वचन से हम कुछ बातों को देखेंगे।2शमूएल के 12वें अध्‍याय की 15-23 वीं आयतों में वर्णन है, दाऊद के बेटे का, जो रोगी हुआ और जिसके लिए दाऊद ने परमेश्‍वर से प्रार्थना की और उपवास किया और रात भर भूमि पर पड़ा रहा। वह परमेश्‍वर यहोवा से बच्‍चे के जीवन के लिए याचना करता रहा किन्‍तु अंततः बच्‍चे की मत्‍यु हो गई। उसके बाद हम पाते हैं कि दाऊद उठता है और नहाकर तेल लगाता है, वस्‍त्र बदलता है और यहोवा के भवन में जाकर दण्‍डवत् करता है, उसके पश्‍चात् वह घर लौटकर भोजन भी करता है। वह कहता है कि जब तक बच्‍चे का जीवन था तब तक मैं याचना करता रहा पर अब वह मृत्‍यु के पार हो गया है। 

 

 

23वीं आयत में दाऊद एक प्रमुख बात स्‍पष्‍ट करता है, वह कहता है कि मैं तो उसे लौटाकर नहीं ला सकता और न ही वह मेरे पास लौटकर आयेगा पर मैं उसके पास जाऊंगा। इस घटना से निम्‍नलिखित शिक्षाएं हमको मिलती हैं- 

 

1. जीवन का देना लेना परमेश्‍वर के निर्णय की बात हैः- बच्‍चे परमेश्‍वर की धरो‍हर के रूप में हमारे पास हैं, उनके

अनंतकाल का पिता वास्‍तव में परमेश्‍वर होता है। जिस भी रूप में और जितने भी समय के लिये बच्‍चे माता-पिता को प्राप्‍त होते हैं उसका लेखा उनको परमेश्‍वर को देना होगा। अतः इसलिए परमेश्‍वर की इच्‍छा को सर्वोपरि मानकर हमें अय्यूब के समान यह कहना है कि ‘‘परमेश्‍वर ने दिया और परमेश्‍वर ही ने लिया; परमेश्‍वर का नाम धन्‍य है।’’ (अय्यूब 1:21) 

 

 

2. बच्‍चे मासूम होते है तथा अपराध की भावना से ग्रसित न‍हीं होतेः- बच्‍चे की मृत्‍यु में एक बात जा निश्चित होती है और जो परमेश्‍वर के वचन पर आधारित है कि वे निष्‍‍कंलक होने के नाते निश्चित ही स्‍वर्ग राज्‍य के वारिस होंगे। प्रभु यीशु मसीह ने अपने जीवन काल में बच्‍चों के अनेक उदाहरण प्रस्‍तुत किये हैं। उन्‍होंने कहा कि जब तक हम इन बालकों के समान ना बनो, स्‍वर्ग के राज्‍य के वारिस नही बन पाआगे।  इस दुःखद अंधाकारपूर्ण त्रासदी में एक आशीषित निश्चितता है कि यह बेटा/बेटी निश्चित रूप से अब एक बेहतर स्‍थान पर परेश्‍वर की अनंत समीपता में है।

 

 

 

3. हमारा विश्‍वास एंव हमारी आशा दाऊद के समान होः-  दाऊद कहता कि वह तो मेरे पास नहीं आ सकता पर मैं

उसके पास जाऊंगा। प्रभु यीशु मसीह के द्वारा यह अनंत जीवन की आशा हम सबको है। हम एक दिन अपने बिछड़े हुये प्रियों से, जो प्रभु की अनंत समीपी में हैं, मिल सकेंगे। दाऊद का यह कथन बहुत महत्‍वपूर्ण कथन है जो मसीही विश्‍वास और आशा को अभिव्‍यक्‍त करता है   

 

 

4. अंतिम बात तैयारी की हैः- मृत्‍यु का उम्र से कोई संबंध नहीं होता, जितना समय परमेश्‍वर ने हमको दिया है, उसे हमें धन्‍यवाद, कृतज्ञता और उसकी ग़वाही बनकर बिताना है। क्‍योंकि हम नहीं जानते कि हमारे जीवन का अंत कब आ जाये। यदि हम प्रभु यीशु मसीह में बने रहते हैं तो ऐसी जटिल परिस्थितियों एवं त्रासदियों में भी हमको दृढ़ता और आशा मिलती है। वास्‍तव में अंतिम क्रिया का संदेश उनके लिए होता है जो क्रब्र के चारों ओर खड़े होते हैं, जो चला गया सो चला गया पर क्‍या हम तैयार हैं? क्‍या हमारा विश्‍वास और हमारे जीवन के कार्य इस प्रकार हैं कि जब भी हमारा समय आये तो हमें निश्चिता हो कि हम उस अनंत मीरास में प्रवेश करेंगे, जो प्रभु यीशु मसीह के बलिदान और पुनरूत्‍थान के द्वारा हमारे लिये उपलब्‍ध कराया गया है। 

 

 

निष्‍कर्षः- प्रभु वाटिका के इस सन्‍नाटे में खड़े हुए हमको बात को समझना है कि;- जीवन का देना और लेना परमेश्‍वर के निर्णय की बात है।- बच्‍चे मासूम होते हैं तथा अपराध की भावना से ग्रसित नहीं होते।- हमारा विश्‍वास एवं हमारी आशा दाऊद के समान हो। - हम खुद को परमेश्‍वर के हाथ में सौंपने के लिए अपने जीवन की तैयारी करें।  

 

पास्‍टर- सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर पिता की य‍ह इच्‍छा हुई कि इस भाई/बहन/ बच्‍चे की आत्‍मा को इस संसार से बुला ले। इसलिए हम उसका शरीर भूमि को सौंपते हैं। मिट्टी को मिट्टी, राख और धूल को धूल।(यह कहते हुए हर बार पास्‍टर एक-एक-मुठ्ठी मिट्टी लेकर क़ब्र में डालता जाये)  

 

 

हम यह दृढ़ आशा रखते हैं कि हमारे यीशु मसीह में अनन्‍त जीवन है, और वह उस सामर्थ्‍य के द्वारा जिससे वह सब वस्‍तुओं को अपने वश में कर सकता है। अपने विश्‍वासियों की नाशवान देह को अविनाशी में बदल देगा। 

 

(इसके बाद वहां उपस्थित सभी अभिषिक्‍त पासबान क़ब्र में मिट्टी डालें फिर मृतक के परिवारजन मिट्टी दें, उसके बाद वहां उपस्थित अन्‍य सभी जन ख़ामोशी से आदरपूर्वक मृतक को मिट्टी दें। इसके बाद सभी ख़ामोशी से अपने-अपने स्‍थानों पर आदरपूर्वक खड़े हो जाएं) 

 

 

प्रार्थना- हे दयालु पिता परमेश्‍वर, तू जो हमारे उद्धारकर्ता, मुक्तिदाता प्रभु यीशु मसीह का पिता है, जो पुरूत्‍थान और जीवन है, जिसकी प्रतिज्ञा है कि जो कोई उस पर विश्‍वास करेगा यदि वह मर भी जाये तौ भी जियेगा। और जो कोई उस पर विश्‍वास करता है और उसमें बना रहता है वह कभी न मरेगा, हम अत्‍यन्‍त दीनता और आदर के साथ तेरी उपस्थिति का अनुभव करते हैं। हम दीनता से यह विनती करते हैं कि तू हमें पाप की मृत्‍यु से बचा कि हम मसीह की शिक्षाओं के अनुरूप तुझे ग्रहण योग्‍य जीवन जियें। तुझ पर विश्‍वास को हम दृढ़ता से थामें रहें ताकि जब इस दुनिया में हमारा जीवन पूर्ण हो तो हम तेरे निकट आने के योग्‍य ठहर सकें और तेरी उस आशीष को प्राप्‍त करें, जिसे तेरा प्रिय पुत्र उस समय उन सब को जो तुझसे प्रेम रखते हैं और तेरी आज्ञाओं पर चलते है कहेगा- कि हे मेरे जगत पिता के धन्‍य लोगों आओं और उस राज्‍य के अधिकारी हो जाओ जो जगत के आदि से तुम्‍हारे लिये तैयार किया हुआ है। हमारी सहायता कर कि हम तेरे अच्‍छे, सच्‍चे, विश्‍वासयोग्‍य और धन्‍य दास और दासी ठहर सकें। हे दयालु पिता हमारी इस विनती को हमारे त्राणकर्ता प्रभु यीशु मसीह के द्वारा सुन ले। तुझसे विनती करते हैं कि तू परिवार के सभी लोगों को जो अपने प्रिय जन की मृत्‍यु के विछोह से दुःखी हैं उनको शांति और दृढ़ता और तसल्‍ली प्रदान कर हम सभों को अपने दिन गिनने की समझ दें। आमीन!  

 

 

प्रभु की प्रार्थना-

 

 

अंतिम आशीष अब शांतिदाता परमेश्‍वर जो हमारे प्रभु यीशु मसीह को जो भेड़ों का महान रखवाला है, सनातन वाचा के लोगों के गुण से मरे हुओं में से जिलाकर ले आया कि तुम्‍हें हर एक अच्‍छी बात में सिद्ध करे कि तुम उसकी इच्‍छा पूरी करो। और जो कुछ उसको भाता है उसे यीशु मसीह के द्वारा हममें उत्‍पन्‍न करो जिसकी बड़ाई युगों-युगों तक होती रहे, आमीन! 

 

 

(इस आराधना के पश्‍चात् कलीसिया के अन्‍य लोग लौट जाएं। परिवार के लोग देख लें कि क़ब्र पूरी तरह से ढंक जाए। इस समय में वे क़ब्र पर मोमबत्‍ती, अगरबत्‍ती जला सकते हैं और फूल इत्‍यादि से उसे सजा सकते हैं।)

Quick Navigation